Baat Nahi Karne Ki Shayari

Baat Nahi Karne Ki Shayari

Baat Nahi Karne Ki Shayari – बात नहीं करने की शायरी – Wo Baat Nahi Karte Shayari



Baat Nahi Karne Ki Shayari – Baat Nahi Karne Ki Shayari,बात नहीं करने की शायरी, Baat Nahi Karne Ki Shayari, Wo Baat Nahi Karte Shayari, बात नहीं करने की शायरी, Baat Nahi Karne Ki Shayari Image, Wo Baat Nahi Karte Shayari, Baat Nahi Karne Ki Shayari, Baat Nahi Karne Ki Shayari, Baat Nahi Karne Ki Shayari, Baat Nahi Karte Shayari In Hindi Images, बात नहीं करने की शायरी, बात नहीं करने की शायरी, बात नहीं करने की शायरी, Aap Baat Kyu Nahi Karte Shayari, Ab Baat Nahi Hoti Shayari, Online Hoke Bhi Baat Nahi Karte Shayari, Baat Karne Ki Aadat Shayari, Baat Shayari, Baat Nahi Karte Shayari In Hindi Images, Baat Shayari, Baat Karne Ke Liye Shayari, Baat Nahi Karna Shayari, Kisi Or Se Baat Karna Shayari, Baat Nahi Karne Ki Shayari Image, Wo Baat Nahi Karte Shayari, Wo Baat Nahi Karte Shayari, Wo Baat Nahi Karte Shayari



उससे ऐसा भी क्या रिश्ता है
दर्द कोई भी हो याद उसी की आती है



Usase aesa bhi kya rishta hai,
Dard koi bhi ho yad usi ki aati hai.



मोहब्बत का कोई कसूर नहीं
उसे तो मुझसे रूठना ही था
दिल मेरा शीशे सा साफ़
और शीशे का अंजाम तो टूटना ही था !



Mohabbat ka koi kasur nahi,
Use to mujse ruthna hi tha,
Dil mera shishe sa saf,
Aaur shishe ka anjam to tutna hi tha.



रूबरू होने की तो छोङिये, लोग गूफ्तगू से भी कतराने लगे हैं…
गुरूर ओढे हैं रिश्ते, अपनी हैसियत पर इतराने लगे हैं



Rubaru hone ki to chhodia log guftgu se bhi katrane lage hai,
Gurur odhe hai rishte , apni haisiyat par itrane lage hai .



मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिना,
कभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना



Mat puchho kaise gujarata hai har pal tumhare bina,
Kabhi bat karne ki hasarat kabhi dekhne ki tamanna.



नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार पे,
अगर में तेरे हि अंदाज मे तुझसे बात करुं



Nafrat ho jayegi juje apne hi kirdar pe ,
Agar mai tere hi andaj me tujse bat karun.



कभी पीठ पीछे आपकी बात चले तो घबराना मत,
बात उन्हीं की होती है, जिनमें कोई बात होती है



Kabhi pith pichhe aapki bat chale to dhabarana mat,
Bat unhi ki hoti hai , jinme koi bat hoti hai.



बेगानों से गुजर जाते है कोई बात नहीं होती,
हम उनसे रोज मिलते हैं मगर मुलाक़ात नहीं होती,
सूखे बंजर खेत जैसी जिंदगी बेहाल है,
घटाएं घिर तो आती है मगर बरसात नहीं होती..



Begano se gujar jate hai koi bat nahi hoti,
Ham unse roj milte hai magar mulakat nahi hoti,
Sukhe banjar khet jaisi jindagi behal hai,
Ghataye ghir to aati hai magar barsat nahi hoti.



अपनी किश्मत उतनी रखिये जितनी अदा हो सके
अगर अनमोल होगये तो तनहा हो जाओगे



Apni kismat utni rakhia jitni ada ho sake,
Agar anmol hogaye to tanha ho jaoge.



बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह,
हर एक रूप मैं तेरा इंतज़ार करता हूँ ||
ना तुम समझ सको कयामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते है ||



Badalna nahi aata hame mousam ki tarah,
Har ak rup mai tera intjar karta hun.
Na tum samaj sako kayamat tak,
Kasam tumhari tumhe itna pyar karte hai.



तेरा उल्फत कभी नाकाम न होना देंगे,
तेरी दोस्ती कभी बदनाम न होना देंगे ||
मेरी ज़िंदगी मैं सूरज निकले या न निकले,
तेरी ज़िंदगी मैं कभी शाम न होने देंगे ||



Tera ulfat kabhi nakam na hona denge,
Teri dosti kabhi badnam na hona denge.
Meri jindagi mai suraj nikle ya na nikle,
Teri jindagi mai kabhi sham na hone denge.



उसके सिवा किसी को चाहना मेरे बस में नहीं
ये दिल उसका है अपना होता तो बात और थी



Uske siva kisi ko chahna mere bas mai nahi,
Ye dil uska hai apna hota to bat aaur thi.



जिस शाम बरसते है तेरी याद के बादल,
उस वक्त कोई भी हिजर का तारा नहीं होता ||
यु ही मेरे पहलु मैं चले आते हैं अक्सर,
वो दर्द जिन्हे मैने कभी पुकारा नहीं होता ||



Jis sham baraste hai teri yad ke badal
Us vakt koi bhi hijar ka tara nahi hota
Yu hi mere pahlu mai chale aate hai aksar,
Vo dard jinhe mene kabhi pukara nahi hota.



तुझ से दूर रहकर मोहब्बत बढती जा रही है,
क्या कहूँ कैसे कहूँ ये दुरी तुझे और करीब ला रही है!



Tuj se dur rahkar mohabbat badhti ja rahi hai,
Kya kahun kaise kahun ye duri tuje aaur karib la rahi hai



ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस
इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और
ज़िंदगी कभी खत्म न हो



Khvaish a jindagi bas
Itni si hai ab meri,
Ki sath tera ho aaur
Jindagi kabhi khatm na ho



मैंने तो सिर्फ तुझ से मोहब्बत करने की दुआ मांगी है,
मैंने तो हर दुआ में सिर्फ तेरी वफ़ा मांगी है,
ये ज़माना लाख जले हमारी मोहब्बत से,
मैंने तो सिर्फ तुझसे मोहब्बत करने की सजा मांगी है।



Maine to sirf tuj se mohabbat karne ki dua mangi hai,
Maine to har dua mai sirf teri vafa mangi hai,
Ye jamana lakh jale hamari mohabbat se,
Maine to sirf tujse mohabbat karne ki saja mangi hai.



बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है,
वो हजारो रातों में वो एक रात होती है,
जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ,
तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है।



Bahut sukun milta hai jab unse hamari bat hoti hai,
Vo hajaro rato mai vo ak rat hoti hai,
Jab nigahe uthakar dekhte haivo meri taraf,
Tab vo hi pal mere lia puri kaynat hoti hai.



पहले चाहे सुबह हो या श्याम,
हर वक्त उनका Call आता रहता था,
पर अब एक Mesaage करने में भी
उन्हें बहुत जोर पड़ता है।



Pahle chahe subah ho ya shyam,
Har vakt unka call aata rahta hai,
Par ab ak message karne mai bhi,
Unhe bahut jor padta hai.



कुछ समय पहले तो वो बेवजह ही
हमसे बात करने का बहाना बहाना ढूंढ़ते रहते थे,
और अब वो बेवजह ही
हमसे बात ना करने का बहाना ढूँढ़ते है।



Kuchh samay pahle to vo bevajah hi
Hamse bat karne ka bahana dhundhte rahte the,
Aaur ab vo bevajah hi
Hamse bat na karne ka bahana dhundhte hai.



जब अपना मतलब पूरा हो जाता हैं तो
अक्सर लोग दूसरे शक्श से बात करना बंद कर देते है।



Jab apna matlab pura ho jata hai to
Aksar log dusre shaksh se bat karna band kar dete hai.



महोब्बत तो आज भी बेपन्हा करते हैं हम उनसे,
लेकिन आज भी वो बात करने के लिए राज़ी नहीं हमसे।



Mahobbat to aaj bhi bepanha karte hai ham unse,
Lekin aaj bhi vo bat karne ke lia razi nahi hamse



जिंदगी में अब बस मायुशि ही रह गयी है,
जब से उन्होंने कहा हैं की
मुझसे बात करनी की अब कोशिश भी मत करना।



Jiandagi mai ab bas mayushi hi rah gai hai,
Jab se unhone kaha hai ki
Mujse bat karne ki ab koshish bhi mat karna.



आँखें भी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त तुझे ही याद करती हैं,
जब तक ना कर लें दीदार तेरा ,
वो तेरा ही इंतज़ार करती हैं।



Aankhen bhi palko se saval karti hai,
Har vakt tuje hi yad karti hai,
Jab tak na kar le didar tera,
Vo tera hi intjar karti hai.



इजाजत हो तो लिफ़ाफ़े में रखकर,
कुछ वक़्त भेज दूँ सुना है,
कुछ लोगो को फुर्सत नहीं,
अपनों को याद करने की।



Ijajat ho to lifafe mai rakhkar,
Kuchh vakt bhej dun suna hai,
Kuchh logo ko fursat nahi,
Apno ko yad karne ki.



चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं,
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते है,
बच के रहना इन हुसन वालों से यारो,
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।



Chupke chupke pahle vo jindgi mai aate hai,
Mithi mithi bato se dil mai utar jate hai,
Bach ke rahna in husan valo se yaro,
In ki aag mai kai aashik jal jate hai.



बातें तो हर कोई समझ लेता है,
मगर हम वो चाहते है जो हमारी ख़ामोशी को समझे।



Bate to har koi samaj leta hai,
Magar ham vo chahte hai jo hamari khamoshi ko samje.



नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार पे,
अगर में तेरे ही अंदाज मे तुझसे बात करुं।



Nafrat ho jayegi tuje apne hi kirdar pe,
Agar mai tere hi andaj mai tujse bat karun.



दिन रात तुम्हारी यादो में ही अपना समय बिताते है,
और कब तुम हमसे बात करने के लिए,
Phone करोगी बस यही हम सोचते रह जाते है।



Din rat tumhari yado mai hi apna samay bitate hai.
Aaur kab tum hamse bat karne ke lia,
Phone karogi bas yahi ham sochte rah jate hai.



उदास लम्हों को न कोई याद रखना,
तूफ़ान में भी वजूद अपना संभालें रखना,
किसी की जिंदगी की खुशी हो तूम,
बस यही सोच तूम अपना ख्याल रखना।



Udas lamho ko na koi yad rakhna,
Tufan mai bhi vajud apna sambhale rakhna,
Kisi ki jindagi ki khushi ho tum,
Bas yahi soch tum apna khyal rakhna.



हजारों मंजिले होगी हजारों कारवाँ होंगे,
निगाहें हमकों ढूढेगी,
पता नही हम कहा होंगे।



Hajaro manjile hogi hajaro karvan honge,
nigahe hamko dhundhegi,
Pata nahi ham kaha honge.



इस दिल को सबसे ज्यादा दर्द तब हुआ,
जब उन्होंने हमसे बात करने के लिए मना किया।



Is dil ko sabse jyada dard tab hua ,
Jab unhone hamse bat karne se mana kia.



नादान है बहुत वो..
ज़रा समझाइए उसे बात न करने से,
मोहब्बत कम नहीं होती।



Nadan hai bahut vo
Jara samjaia use bat na karne se,
Mohabbat kam nahi hoti.



ये जो तुम मुझसे बात नहीं करती,
ये नफरत की निशानी है या प्यार हो जाने का डर।



Ye jo tum mujse bat nahi karti,
Ye nafrat ki nishani hai ya pyar ho jane ka dar.



हिचकियाँ कहती हैं कि तुम याद करते हो,
पर बात नहीं करोगे तो एहसास कैसे होगा।



Hichkiya kahti hai ki tum yad karte ho,
Par bat nahi karoge to ahsas kaise hoga.



हम वर वक्त उनके मैसेज का इंतज़ार करते रहते हैं,
और वो हमें युही तड़पाते रहते है।



Ham har vakt unke message ka intjar karte rahte hai,
Aaur vo hame yuhi tadpate rahte hai.



RELATED POST :- I Hate You Shayari
Manane Wali Shayari
Single Shayari
Friendship Shayari In English
Zindagi Shayari In Hindi
Love Wali Shayari
Bewafa Dard Bhari Shayari
Gajab Attitude Shayari In Hindi
Funny Shayari In English
Ghalib Shayari



पहले तो वो हर वक्त हमसे मिलने के लिए तैयार रहते थे,
लेकिन अब मिलना तो दूर,
एक मैसेज करने पर भी उन्हें जोर पड़ता हैं।



Pahle to vo har vakt hamse milne ke lia taiyar rahte the,
Lekin ab milna to dur,
Ak message karne par bhi unhe jor padta hai.



किसी का मैसेज ना आना भी एक मैसेज है,
की अब वहां तुम्हारे लिए कोई जगह नहीं रही।



Kisi ka message na aana bhi ak message hai,
Ki ab vahan tumhare lia koi jagah nahi rahi.



जब जरुरत थी तब मिलने तक भी आते है,
अब जरुरत ख़त्म हो गयी है,
तो एक मैसेज भी उनसे करा नहीं जाता।



Jab jarurat thi tab milne tak bhi aate hai,
Ab jarurat khatm ho gai hai,
To ak message bhi unse kara nahi jata.



ना जाने उनकी ऐसी क्या मज़बूरी आ गयी है,
एक मैसेज करने में भी उन्हें मौत आ रही है।



Na jane unki aesi bhi kya majburi aa gai hai,
Ak message karne mai bhi unhe mout aa rahi hai.



कल तुम्हे एक मैसेज ही तो नहीं किया था,
अब क्या हमसे नाराज होकर हमें इतनी बड़ी सजा दोगी।



Kal tumhe ak message hi to nahi kiya tha,
Ab kya hamse naraj hokar hame itni badi saja dogi.



कॉल पर बात ना करना सही,
कम से कम Whatsapp पर Message ही कर दिया करो।



Call par bat na karna sahi,
Kam se kam whatsapp par message hi kar diya karo.



वक्त-वक्त की बात है,
आज तुम्हारा मतलब पूरा हुआ है,
कल हम भी अपना मतलब निकल कर,
तुम्हारा दिल दुखायेंगे।



Vakt vakt ki bat hai,
Aaj tumhara matlab pura hua hai,
Kal ham bhi apna matlab nikal kar,
Tumhara dil dukhayenge.



हमें उनके मैसेज का इंतज़ार अब बिलकुल नहीं रहता है,
क्योंकि उनके दिल में हमारे लिए,
अब नफरत का घोल घुल गया है।



Hame unke message ka intjar ab bilkul nahi rahta hai,
Kyonki unke dil mai hamare lia,
Ab nafrat ka ghol ghul gaya hai.



पहले वो गुड मॉर्निंग और गुड नाईट दोनों के मैसेज भेजा करते थे,
और अब Hii लिखकर भेजना भी उनके लिए बहुत मुश्किल हो गया है।



Pahle vo good morning aaur good night dono ke message bheja karte the
Aaur ab hii likhkar bhejna bhi unke lia bahut mushkil ho gaya hai.



मेरी पलकों की नमी इस बात की गवाह है,
मुझे आज भी तुमसे मोहब्बत बेपनाह है.



Meri palko ki nami is bat ki gavah hai,
Muje aaj bhi tumse mohabbat bepanah hai.



मंजिल पाना तो बहुत दूर की बात है,
गुरूर में रहोगे तो रास्ते भी न देख पाओगे.



Manjil pana to bahut dur ki bat hai,
Gurur me rahoge to raste bhi na dekh paoge.



बात ही बात में बात बिगड़ जाती है,
इंसान की फितरत समझ में नही आती है.



Bat hi bat mai bat bigad jati hai,
Insan ki fitrat samaj mai nahi aati hai



एक वक्त था जब बाते ही
खत्म नहीं होती थी,
आज सबकुछ खत्म हो गया
मगर बात ही नहीं होती.



Ak vakt tha jab bate hi
Khatm nahi hoti thi,.
Aaj sabkuchh khatm ho gaya
Magar bat hi nahi hoti.



बात-बात पर ये मुस्कुराते हो क्यों बार-बार,
जान लेने के और भी तरीके हैं हजार.



Bat – bat par ye muskurate ho kyu bar – bar
Jan lene ke aaur bhi tarike hai hajar.



हम ना होंगे तो तुम्हें मनाएगा कौन,
यूँ बात-बात पर रूठा ना करो.



Ham na honge to tumhe manayega kaun,
Youn bat – bat par rutha na karo.



तेवर और जेवर सम्भाल के रखने की चीज है,
यूँ बात-बात पे हर किसी को दिखाए नहीं जाते.



Tevar aaur jevar sambhal ke rakhne ki chiz hai,
Youn bat – bat par kisi ko dikhaye nahi jate.



बहुत जल्दी सीख लेते है जिंदगी के सबक,
गरीब के बच्चे बात-बात पर जिद नही करते.



Bahut jaldi sikh lete hai jindagi ke sabak,
Garib ke bachche bat – bat par jid nahi karte.



तुम होशियार हो ये अच्छी बात है,
पर दूसरों को मूर्ख न समझना सबसे बड़ी बात है.



Tum hoshiyar ho ye achhchhi bat hai,
Par dusro ko murkh na samjana sabse badi bat hai.



बात कुछ और होती है,
बयाँ कुछ और करते है,
ख़फा जब तुमसे होते है,
तो जुल्म खुद पर करते है.



Bat kuchh aaur hoti hai,
Baya kuchh aaur karte hai,
Khafa jab tumse hote hai,
To julm khud par karte hai.



माना तुम मेरे नही पर मुलाक़ात कर लो,
होठों से ना सही, आँखों से ही बात कर लो.



Mana tum mere nahi par mulakat kar lo,
Hotho se na sahi, aankhon se hi bat kar lo.



कैसे कह दूँ कि मुलाक़ात नहीं होती है,
रोज मिलते हैं मगर बात नहीं होती है.
शकील बदायुनी



Kaise kah dun ki mulakat nahi hoti hai,
Roj milte hai magar bat nahi hoti hai.
Shakil badayuni



सिर्फ़ एक सफ़ाह पलटकर उसने,
बीती बातों की दुहाई दी है,
फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है.



Sirf ak safah palatkar usne,
Biti bato ki duhai di hai,
Fir vahi laut ke aana hoga,
Yar ne kaisi rihai di hai.



हर बात पर मुस्कुराना ही बेहतर है,
अब थप्पड़ तो हर किसी को मार नहीं सकते.



Har bat par muskurana hi bahetar hai,
Ab thappad to har kisiko mar nahi sakte.



जरा सी बात होती है तो तन्हा छोड़ जाते है,
मोहब्बत कर के लोगो से सम्भाली क्यों नही जाती.



Jara si baat hoti hai to tanha chod jate hain,
Mahobbat karke logo se shambhali kyu nahi jati.



होश का पानी छिड़को मदहोशी की आँखों पर,
अपनों से न उलझों गैरों की बातों पर.



Hosh ka pani chidko madhosi ki aankho par,
Apno se na uljo gairo ki bato par.



पागल नहीँ थे हम जो तेरी हर बात मानते थे,
बस तेरी खुशी से ज्यादा कुछ अच्छा ही नहीँ लगता था !



सोहरत अच्छी होती है गुरूर अच्छा नहीं होता
अपनों से बेरुखी से पेश आना हुजूर अच्छा नहीं होता



Sohrat acchi hoti hain gurur accha nahi hota,
Apno se berukhi se pesh aana hujur accha nahi hota.



तुझ को खबर नहीं मगर एक बात है “जानू”
बर्बाद कर दिया तेरा दो दिन के प्यार ने मुझे



Tuj ko khabar nahi magar ek baat hain janu,
Barbad kar diya tera do din ke pyaar ne muje.



अपनी कीमत उतनी रखिये
जितनी अदा हो सके अगर
अनमोल हो गए तो तनहा हो जाओगे



Apni kimmat utani rakhiye,
Jitni ada ho sake agar,
Anmol ho gaye to tanha ho jaoge.



बातें करना अच्छा लगता है ,
जब अपना कोई साथ हो,…
बातें सुनना भी अच्छा लगता है,
जब अपना ही ज़िक्र ओर बात हो.



Baate karna accha lagta hain,
Jab apna koi sath lagta hain,
Bate sunana bhi accha lagta hain.
Jab apna hi jikra aur baat ho.



तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना,
तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना,
मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना,
मैं शौक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना



Teri chaukhat se sir uthaun to bevafa kahna,
Tere siva kisi aaur ko chahun to bevafa kahna,
Meri vafao pe shak hai to khanjar utha lena,
Mai shauk se mar na jau to bevafa kahna



ज़रूरी नहीं है कि तू मेरी हर बात समझे,
ज़रूरी ये है कि तू मुझे कुछ तो समझे.



Jaruri nahi hai ki tu meri har bat samje,
Jaruri ye hai ki tu muje kuchh to samje.



केवल अल्फ़ाज़ों की बात थी, पगली,
जज़्बात तो तुम, वैसे भी नहीं समझती.



Keval alfajo ki bat thi , pagli,
Jajbat to tum, vaise bhi nahi samjati.



हर फूल को रात की रानी नही कहते,
हर किसी से दिल की कहानी नही कहते.
मेरी आँखों की नमी से समझ लेना,
हर बात को हम जुबानी नही कहते.



Har ful ko rat ki rani nahi kahte,
Har kisi se dil ki kahani nahi kahte.
Meri aakhon ki nami se samaj lena,
Har bat ko ham jubani nahi kahte.



खामोश बैठें तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,
जरा-सा हंस लें तो मुस्कुराने की वजह पूछते हैं।



Khamosh bethe to log kahte hai udasi achhchhi nahi,
Jara – sa has le to muskurane ki vajah puchhte hai.



ज़रा सा बात करने का सलीक़ा सीख लो तुम भी,…
इधर तुम होठ हिलाते हो उधर दिल टूट जाते है.



Jara sa bat karne ka salika sikh lo tum bhi,
Idhar tum hoth hilate ho udhar dil tut jate hai.



मेरे दिल में तो आज भी तुम मेरे ही हो,
ये और बात है हाथ की लकीरों ने दगा किया.



Mere dil mai to aaj bhi tum mere hi ho,
Ye aaur bat hai hath ki lakiro ne daga kiya.



तु मिले या न मिले ये मेरे मुकद्दर की बात है..
सुकुन बहुत मिलता है तुझे अपना सोचकर.



Tu mile ya na mile ye mere mukaddar ki bat hai,
Sukun bahut milta hai tuje apna sochkar.



इसी बात ने उसे शक में डाल दिया हो शायद,
इतनी मोहब्बत, उफ्फ कोई मतलबी हीं होगा.



Isi bat ne use shak mai dal diya ho shayad,
Itni mohabbat uff koi matlabi hi hoga.



बात ये नही है कि “तेरे बिना” जी नही सकते,
बात ये है कि “तेरे बिना” जीना नही चाहते.



Bat ye nahi hai ki tere bina ji nahi sakte,
Bat ye hai ki tere bina jina nahi chahte.



इतर से कपड़ों का महकाना कोई बड़ी बात नहीं है,
मज़ा तो तब है जब आपके किरदार से खुशबु आये.



Itar se kapdo ka mahkana koi badi bat nahi hai,
Maja to tab hai jab aapke kirdar se khushbu aaye.



मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी
ऐसा कहकर वो call काट देते हैं
मैं मनाऊं उनको ऐसा सोचकर
मेरी कॉल का इंतजार करते हैं



Muje tumse bat hi nahi karni
Aesa kahkar vo call kat dete hai,
Mai manau unko aaisa sochkar
Meri call ka intzar karte hai.



रोते हुए को हसाने की क्या सजा पा गया,
मेरी जिंदगी की खुशी उसको मिली,
और उसकी जिंदगी का हर गम,
मेरे हिस्से आ गया,



Rote huye ko hasani ki kya saja pa gaya,
Meri jindagi ki khushi usko mili,
Aaur uski jindagi ka har gam,
Mere hisse aa gaya



कुछ दिन बात ना करने से कोई बेगाना
नहीं होता कोई भी दोस्त इतना पुराना
नहीं होता दोस्ती में गिले-शिकवे तो चलते
रहते हैं पर इसका मतलब दोस्तों को
भुलाना नहीं होता



Kuchh din bat na karne se koi begana
Nahi hota koi bhi dost itna purana
Nahi hota dosti mai gile – shikve to chalte
Rahte hai par iska matlab dosto ko
Bhulana nahi hota.



सुना है वो जाते हुए कह गये, के अब
तो हम सिर्फ़ तुम्हारे ख्वाबो मे आएँगे,
कोई कह दे उनसे के वो वादा कर ले,
हम जिंदगी भर के लिए सो जाएँगे



Suna hai vo jate hua kah gaye ke ab
To ham sirf tumhare khvabo mai aayenge,
Koi kah de unse ke vo vada kar le,
Ham jindagi bhar ke lia so jayenge.



उनसे मिलने को जो सोचों अब वो ज़माना नहीं,
घर भी कैसे जाऊं अब तो कोई बहाना नहीं,
मुझे याद रखना कहीं तुम भुला न देना,
माना के बरसों से तेरी गली में आना-जाना नहीं।



Unse milne ko jo socho ab vo jamana nahi,
Ghar bhi kaise jau ab to koi bahana nahi,
Muje yad rakhna kahi tum bhula na dena,
Mana ke barso se teri gali mai aana – jana nahi.



दिल का दर्द दिल तोड़ने वाला क्या जाने,
प्यार के रिवाजों को ये ज़माना क्या जाने,
होती है इतनी तकलीफ लड़की पटाने में,
ये घर बैठा उसका बाप क्या जाने।…



Dil ka dard dil todne vala kya jane,
Pyar ke rivajo ko ye jamana kya jane,
Hoti hai itni taklif ladki patane mai,
Ye ghar baitha uska bap kya jane.



औरत की इज्जत करो, इसलिए नहीं
की वो औरत है बल्कि ये साबित करने
के लिए कि आपकी परवरिश एक
अच्छी माँ ने की है



Aaurat ki ijjat karo, islia nahin
Ki vo aaurat hai balki ye sabit karne
Ke lia ki aapki parvarish ak
achhchhi ma ne ki hai.



कितना फर्क हैं ना हम दोनो की चाहत में
मुझे तुम्हे याद करने से फुर्सत नही और
तुम्हे मुझे याद करने की फुर्सत नही।



Kitna fark hai na ham dono ki chahat mai
Muje tumhe yad karne se fursat nahi aaur
Tumhe muje yad karne ki fursat nahi.



कितना भी दुनिया के लिए हँस के
जी लें हम,रुला देती है फिर भी
किसी की कमी कभी-कभी।



Kitna bhi duniya ke lia has ke
Ji le ham, rula deti hai fir bhi
Kisi ki kami kabhi – kabhi.



अरे कैसी मेरी मजबूरी है
call भी नहींकर सकता,
दिल में दर्द बोहोत है,
लेकिन रो भी नहीं सकता।



Are kaise meri majburi hain,
Call bhi nahi kar sakta,
Dil me dard bahot hain,
Lekin ro bhi nahi sakta.



तेरी हर बात मेरे दिल को छू कर निकलती हैं,
इसीलिए मुझसे सोच समझ कर बात करना…!
कही आप की बातें मेरा दिल को तोड़ न दे!



Teri har baat mere dil ko chukar niklati hain,
Isliye mujse soch samaj kar baat karna,
Kahi aap ki bate mera dil ko tod na de.



आप हम से बात नहीं करते,
और हम आप के बिना,
कोई ख्वाब नहीं देखा करते।



Aap ham se baat nahi karte,
Aur ham aapke bina,
Koi khwab nahi dekha karte.



ना जाने ये कैसा तरीका है,
तुम्हारे प्यार करने का,
की तुम्हारा मन ही नहीं करता,
हमसे बात करने का।



Na jane ye kaisa tarika hain,
Tumhare pyar karne ka,
Ki tumhare man hi nahi karta,
Hamse baat karne ka.



बात तो वो आज भी करती है,
बस फर्क़ इतना है कल हमसे करती थी,
आज किसी और से करती है।



Bat to vo aaj bhi karti hain,
Bas fark itna hain kal hamse karti thi,
Aaj kisi aur se karti hain.



रूबरू होने की तो छोड़िए,
लोग गूफ्तगू से भी कतराने लगे हैं,
गुरूर ओढे हैं रिश्ते,
अपनी हैसियत पर इतराने लगे हैं।



Rubru hone ki to chodiye,
Log guptgu se bhi katrane lage hain,
Gurur odhe hain riste,
Apni hesiyat pe itrane lage hain.



कल तक हमसे बात किये बिना,
जिसे नींद तक नहीं आती थी,
आज हमसे बात करने का,
वक्त नहीं उसके पास।



Kal tak hamse baat kiye bina,
Jise nind tak nahi aati thi,
Aaj hamse baat karne ka,
Vakt nahi usake pas.



तरस जाओगे मेरे लबों से कुछ सुनने को,
बात करना तो दूर हम शिकायत भी नहीं करेंगे।



Taras jaoge mere labo se kuch sunane ko,
Baat karna to dur ham sikayat bhi nahi karenge.



Call नहीं कर सकता,
Message नहीं कर सकता,
पर एक चीज़ कर सकता हु,
तुझे याद कर सकता हु।



Call nahi kar sakta,
Message nahi kar sakta,
Par ek chiz kar sakta hu,
Tuje yaad kar sakta hu.



कभी किसीसे बात करने की आदत मत डालना,
क्यों की अगर वो बात करना बंद कर दे तो,
दुबारा जीना मुश्किल हो जाता है।



Kabhi kisise baat karne ki aadat mat dalna,
Kyo ki agar vo baat karna bandh kar de to,
Dubara jina muskil ho jata hain.



नादान है बहुत वो, ज़रा समझाइए उसे,
बात न करने से मोहब्बत कम नहीं होती।



Nadan hain bahut vo, jara samjaie use,
baat na karne se mahobbat kam nahi hoti.



तरस गए हैं तेरे लब से कुछ सुनने को हम,
प्यार की बात न सही कोई शिकायत ही कर दे।



Taras gaye hain tere lab se kuch sunane ko ham,
Pyaar ki baat na sahi koi sikayat hi kar de.



दिल का हाल बताना नहीं आता,
किसी को ऐसे तड़पना नहीं आता,
सुनना चाहते है आपके आवाज़,
मगर बात करने का बहाना नहीं आता।



Dil ka hal batana nahi aata,
Kisis ko ese tadpana nahi aata,
Sunana chahte hain aapka aavaj,
Magar baat karne ka bahana nahi aata.



तुम बात ना करो, कोई बात नहीं,
लेकिन यह जान लो,
बात करने की शुरुआत वही करेगा,
जो बेपनाह मोहब्बत करता हो।



Tum baat na karo koi baat nahi,
Lekin yah jan lo,
Baat karne ki sharuaat vahi karega,
Jo bepanah mahobbat karta hain.



इस कदर हम यार को मनाने निकले,
उसकी चाहत के हम दिवाने निकले,
जब भी उसे दिल का हाल बताना चाहा,
उसके होठों से वक़्त न होने के बहाने निकले।



Is kadar ham yaar ko manane nikale,
Uski chahat ke ham divane nikle,
Jab bhi use dil ka hal batana chaha,
Uske hotho se vakt na hone ke bahane nikle.



वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए,
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए,
कभी तो समझो मेरी खामोशी को,
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें।



Vo dard hi kya jo aankho se bah jaye,
Vo khushi hi kya jo hotho par rah jaye,
Kabhi to samjo meri khamoshi ko,
Vo baat hi kya jo lafj aasani se kah jaye.



कहीं दूर चलें जाएंगे हम तेरी यादों से,
तुम्हारें बात ना करने की वज़ह से,
ढूंढ नहीं पाओगे तुम हमें कभी ज़माने में,
आसुओं को रोक नहीं पाओगे अपने पत्थर के दिल से।



Kahi dur chale jayenge ham teri yado se,
Tumhare baat na karne ki vajah se,
Dhundh nahi paoge tum hame kabhi jamane me,
Aasuo ko rok nahi paoge apne patthar ke dil se.



हिचकियाँ कहती हैं कि तुम याद करते हो,
पर बात नहीं करोगे तो एहसास कैसे होगा।



Hichkiya kahti hain ki tum yaad karte ho,
Par baat nahi karoge to ehsas kaise hoga.



बहुत नादान है वो, कोई समझाओ उसे,
बात ना करने से इश्क कम नहीं होता।



Bahut nadan hain vo, koi samjao usse,
Baat na karne se ishq kam nahi hota.



बहुत हो गया अब रूठना और मनाना,
चलो दोबारा से शुरुआत करते हैं,
भुलादें सारी गलत फहमियां को,
चलो दोबारा से बात करने का आगाज करते हैं,



Bahut ho gaya ab ruthna aur manana,
Chalo dubara se sharuaat karte hain,
Bhulade sari galatfehmio ko,
Chalo dubara se baat karne ka aagaj karte hain.



एक आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता हूँ,
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ,
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी गुस्ताखी से तुम,
इसलिए खामोश रहके भी तेरी धडकनों को सुना करता हूँ।



Ek aarju si dil me aksar chupaye firta hu,
Pyaar karta hu tujase par kahne se darta hu,
Kahi naraj na ho jao meri gustaki se tum,
Isliye khamosh rahkar bhi teri dhadkano ko suna karta hu.



एक वक्त था जब बाते ही खत्म नहीं होती थी,
आज सबकुछ खत्म हो गया मगर बात ही नहीं होती।



Ek vakt tha jab bate hi khatm nahi hoti thi,
AAaj sabkuch ho gaya magar baat hi nahi hoti.



मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी,
ऐसा कहकर वो कॉल काट देते हैं,
मैं मनाऊं उनको ऐसा सोचकर,
मेरी कॉल का इंतजार करते हैं।



Muje tumse baat hi nahi karni,
Esa kahkar vo call kat dete hain,
Main manau unko esa sochkar,
Meri call ka intezar karte hain.



कुछ दिन बात ना करने से कोई बेगाना नहीं होता,
कोई भी दोस्त इतना पुराना नहीं होता,
दोस्ती में गिले-शिकवे तो चलते रहते हैं,
पर इसका मतलब दोस्तों को भुलाना नहीं होता।



Kuch din baat nahi karne se koi begana nahi ho jata,
Koi bhi dest itna purana nahi hota,
Dosti me gile shikave chalte rahte hain,
Par isaka matlab dosto ko bhulana nahi hota.



बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है,
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।



Bin baat ke hi ruthne ki aadat hain,
Kisi apne k sath pane ki chahat hain,
Aap khush rahe mera kya,
Main to aayna hu muje to tutane ki aadat hain.



Call करू तो उठाते नहीं,
Wait करू तो आते नहीं,
Jokes बताये तो मुस्कुराते नहीं,
क्या इतनी नफरत है मुझसे।



Call karu to uthate nahi,
Wait karu to aate nahi,
Jokes bataye to muskurate nahi,
Kya itani nafrat hain mujase.



बात नहीं करना तो बस एक बहाना है,
सच तो यह है कि तुम्हारा हमसे जी भर गया है।



Baat nahi karna to bas ek bahana hain,
Sach to e hain ki tumhara hamse ji bhar gaya hain.



ये जो तुम मुझसे बात नहीं करती,
ये नफरत की निशानी है या प्यार हो जाने का डर।



Ye jo tum mujase baat nahi karti,
Ye nafrat ki nishani hain ya pyaar ho jane ka dar.



बात ना करने से इश्क कम नहीं होता,
बात ना करने से मोहब्बत कम नहीं हो जाती,
बस दिलों की दूरियां बढ़ने लगती हैं,
और प्यार की डोर धीरे धीरे कमजोर हो जाती है।



Bat na karne se ishq kam nahi hota,
Bat na karne se mohabbat kam nahi ho jati,
Bas dilo ki duriyan badhne lagti hai,
Aaur pyar ki dor dhire dhire kamjor ho jati hai.



दिल में आप हो और कोई खास कैसे होगा,
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा,
हिचकियॉं कहती हैं आप याद करते हो,
पर बोलोगे नहीं तो मुझे एहसास कैसे होगा।



Dil mai aap ho aaur koi khas kaise hoga,
Yadon mai aapke siva koi pas kaise hoga,
Hichkiya kahti hai aapyad karte ho,
Par bologe nahi to muje ahsas kaise hoga.



बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह,
हर एक रूप मैं तेरा इंतज़ार करता हूँ ||
ना तुम समझ सको कयामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते है



Badalana nahi aata hame mousam ki tarah,
Har ak rup mai tera intazar karta hun.
Na tum samaj sako kayamat tak,
Kasam tumhari tumhe itna pyar karte hai.



सिर्फ़ एक सफ़ाह पलटकर उसने,
बीती बातों की दुहाई दी है,
फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी ह



Sirf ak safah palatkar usne,
Biti bato ki duhai di hai,
Fir vahi laut ke jana hoga,
Yar ne kaisi rihai di hai.



वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए!
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए!
कभी तो समझो मेरी खामोशी को!
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें!



Vo dard hi kya jo aankhon se bah jaye!
Vo khushi hi kya jo hotho par rah jaye!
Kabhi to samjo meri khamoshi ko!
Vo bat hi kya jo lafz aasani se kah jaye!



दिल का हाल बताना नहीं आता,
किसी को ऐसे तड़पना नहीं आता,
सुनना चाहते है आपके आवाज़,
मगर बात करने का बहाना नहीं आता।



Dil ka hal batana nahi aata,
Kisi ko aaise tadpana nahi aata,
Sunna chahte hai aapke aavaz,
Magar bat karne ka bahana nahi aata.



तनहाईने ही हर दर्द को पीने का सलीक़ा
सीखा दिया, मुँह मोड़ कर अपनो ने जीने
का तरीक़ा सीखा दिया…



Tanhai hi har dard ko pine ka salifa
Sikha diya,Muh todkar apno ne jine
ka tarika sikha diya.



तेरी वो यादे तेरी बाते बस तेरे ही फसाने
है हाँकबूल करते हैं की तुझसे मोहब्बत
कर बैठे हैं और अब हमसे बात करने का
तुम्हारे पास समय नही।



Teri vo yade teri bate bas tere hi fasane
Hai han kabul karte hai ki tujse mohabbat
Kar bethe hai aaur ab hamse bat karne ka
Tumhare pas samay nahi.



मतलबी लोगों के साथ रहने का मजा ही
कुछ और है,थोड़ी तकलीफ होती है पर
पूरी दुनिया के दर्शन उनके अंदर ही हो
जाते है !!



Matlabi logo ke sath rahne ka maja hi
Kuchh aaur hai, thodi taklif hoti hai par
Puri duniya ke darshan unke andar hi ho
Jate hai.



एक वक्त था जब बाते ही
खत्म नहीं होती थी,
आज सबकुछ खत्म हो गया
मगर बात ही नहीं होती



Ak vakt tha jab bate hi
Khatm nahi hoti thi,
Aaj sabkuchh khatm ho gaya
Magar bat hi nahi hoti.



वो लोगो के दिल मे रहता है,
इसलिए मुश्किल में रहता है!
जिसके माज़ी में नही ज़िक्र अपना,
वो ही मुस्तक़बिल में रहता है!
सागर पे इल्ज़ाम लगाने वाला,
लहरों से दूर साहिल पे रहता है!



Vo logo ke dil me rahta hai,
Islia mushkil me rahta hai!
Jiske mazi mai nahi jikra apna,
Vo hi mustakbil mai rahta hai!
Sagar pe ilzam lagane vala,
Lahro se dur sahil pe rahta hai!



बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से



Bahut udas hai koi shakhs tere jane se
Ho sake to laut ke aaja kisi bahane se
Tu lakh khafa ho par ak bar to dekh le
Koi bikhar gaya hai tere ruth jane se.



आँखों में देख कर वो दिल की हकीकत जानने लगे।
उनसे कोई रिश्ता भी नहीं फिर भी अपना मानने लगे।
बन कर हमदर्द कुछ ऐसे उन्होंने हाथ थामा मेरा।
कि हम खुदा से दर्द की दुआ मांगने लगे।



Aakhon mai dekhkar vo dil ki hakikat janne lage.
Unse koi rishta bhi nahi fir bhi apna manne lage.
Ban kar hamdard kuchh aaise unhone hath thama mera.
Ki ham khuda se dard ki dua mangane lage.



मोहब्बत का कोई कसूर नहीं ,
उसे तो मुझसे रूठना ही था ,
दिल मेरा शीशे सा साफ़,और
शीशे का अंजाम तो टूटना ही था



Mohabbat ka koi kusur nahi,
Use to mujse ruthana hi tha,
Dil mera shishe sa saf, aaur
Shishe ka anjam to tutna hi tha.



वो शक्स जाते-जाते बड़ा काम कर गया
रुसवाइयों का शहर मेरे नाम कर गया
आदत थी मेरी सबसे मोहब्बत से बोलना
मेरा ख़ुलूस ही मुझे बदनाम कर गया



Vo shakhs jate- jate bada kam kar gaya,
Rusvaiyon ka shahar mere nam kar gaya,
Aadat thi meri sabse mohabbat se bolna,
Mera khulus hi muje badnam kar gaya.



VIDEO CREDIT :- PINTU AJ



HELLO DOSTO AAPKE LIYE HAM BAAT NAHI KARNE KI SHAYARI PESH KARTE HAIN. AAP IS SHAYARI KO PADHE AUR HAME BATAYE KI AAP KO HAMARI SHAYARI KESI LAGI. AGAR AAPKO HAMARI E SHAYARI PASAND AAYI HO TO AAP HAME COMMENT KARKE JARUR BATAYE. TAKI HAM AAPKE LIYE ESI AUR SHAYARIYA LAYE.

AUR DOSTO AAP HAME SOCIAL MEDIA PE BHI FOLLOW KARE. FACEBOOK , INSTAGRAM , TWITTER , LINKED , PINTREST .

Koi Kisi Ka Nahi Hota Quotes,  Baat Nahi Karni , Baat Nahi Karne Ki Shayari , Baat Nahi Karne Ki Shayari