Ghalib Shayari

Ghalib Shayari

Mirza Ghalib Shayari on Love | {499+} हर एक बात पे कहते हो



Ghalib Shayari – Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari, Ghalib Shayari In Hindi, Mirza Ghalib Shayari In Hindi, Ghalib Shayari In Urdu, Heart Touching Mirza Ghalib Shayari In Hindi, Ghalib Ki Shayari, Mirza Ghalib Ki Shayari, Ghalib Shayari On Love, Mirza Ghalib Shayari In Urdu



दर्द हो दिल में तो दवा कीजे
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजे!



Dard ho dil me to dava kije,
Dil hi jab dard ho to kya kije.



हमको फ़रियाद करनी आती है
आप सुनते नहीं तो क्या कीजे!



Hamko fariyad karni aati hain,
Aap sunte nahi to kya kije.



इन बुतों को ख़ुदा से क्या मतलब
तौबा तौबा ख़ुदा ख़ुदा कीजे!



In buto ko khuda se kya matlab,
Toba toba khuda khuda kije.



रंज उठाने से भी ख़ुशी होगी
पहले दिल दर्द आशना कीजे!



Ranj uthanense bhi khushi hogi,
Pahle dil dard aasana kije.



अर्ज़-ए-शोख़ी निशात-ए-आलम है
हुस्न को और ख़ुदनुमा कीजे!



Arj-E-Shokhi Nishat-E-Aalam hain,
Husn ko aur khudnuma kije.



दुश्मनी हो चुकी बक़द्र-ए-वफ़ा
अब हक़-ए-दोस्ती अदा कीजे!



Dusmani ho chuki bakadra-E-Vafa,
Ab Hak-E-Dossti ada kije.



मौत आती नहीं कहीं, ग़ालिब
कब तक अफ़सोस जीस्त का कीजे



Maut aati nahi kahi galib,
Kab tak afsos jist ka kije.



यूं हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं
कभी सबा को, कभी नामाबर को देखते हैं!



Yu ham jo jikra me Divar-O-Dar ko dekhte hain,
Kabhi saba ko kabhi namabar ko dekhte hain.



वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं!
कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते हैं!



Vo aaye ghar me hamare, khuda ki kudrat hain,
Kabhi ham unko kabhi apne ghar ko dekhte hain.



नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं



Najar lage na kahi usake Dast_o_baju ko,
Ye log kyu mere jakhme jigar ko dekhte hain.



तेरे ज़वाहिरे तर्फ़े कुल को क्या देखें
हम औजे तअले लाल-ओ-गुहर को देखते हैं



Tere javahire tarfe kul ko kya dekhe,
Ham auje taale Lal-O-Guhar ko dekhte hain.



आज फिर इस दिल में बेक़रारी है
सीना रोए ज़ख्म-ऐ-कारी है!



Aaj fir is dil me bekrari hain,
Sina roye jakhm-E-kari hain.



RELATED POST :-  Baat Nahi Karne Ki Shayari
I Hate You Shayari
Manane Wali Shayari
Single Shayari
Friendship Shayari In English
Zindagi Shayari In Hindi
Love Wali Shayari
Bewafa Dard Bhari Shayari
Gajab Attitude Shayari In Hindi
Funny Shayari In English



फिर हुए नहीं गवाह-ऐ-इश्क़ तलब
अश्क़-बारी का हुक्म ज़ारी है!



Fir hue nahi Gavah-E-Ishq talab,
Ashk-Bari ka hukam jari hain.



बे-खुदा , बे-सबब नहीं , ग़ालिब
कुछ तो है जिससे पर्दादारी है



Ve-khuda, ve sabab nahi, galib
Kuch to hain jisase pardadari hain.



दुःख दे कर सवाल करते हो
तुम भी ग़ालिब कमाल करते हो!



Dukh de kar saval karte ho,
Tum bhi galib kamal karte ho.



देख कर पूछ लिया हाल मेरा
चलो कुछ तो ख्याल करते हो!



Dekh kar puch liya hal mera,
Chalo kuch to khyal karte ho.



शहर-ऐ-दिल में उदासियाँ कैसी
यह भी मुझसे सवाल करते हो!



Shahar-E-Dil me udasiya kaisi,
Yah bhi mujase saval karte ho.



मरना चाहे तो मर नहीं सकते
तुम भी जिना मुहाल करते हो!



Marna chahe to mar nahi sakte,
Tum bhi jina muhal karte ho.



अब किस किस की मिसाल दू मैं तुम को
हर सितम बे-मिसाल करते हो!



Ab kis kis ki misal du main tum ko,
Har sitam Be-Misal karte ho.



मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें
चल निकलते जो में पिए होते !



Main unhe chedu aur khuch na kahe,
Chal nikalte jo me piye hote.



क़हर हो या भला हो , जो कुछ हो
काश के तुम मेरे लिए होते



Kahar ho ya bhala ho jo kuch ho,
Kash ke tum mere liye hote.



मेरी किस्मत में ग़म गर इतना था
दिल भी या रब कई दिए होते!



Meri kismat me gam ghar itana tha,
Dil bhi ya rab kai diye hote.



आ ही जाता वो राह पर ‘ग़ालिब ’
कोई दिन और भी जिए होते!



Aa hi jata vo rah par “Galib”,
Koi din aur bhi jiye hote.



सादगी पर उस के मर जाने की  हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है!



Sadgi par us ke mar jane ki hasrat dil me hain,
Bas nahi chalta ki fir khanjar Kaf-E-Katil me hain.



देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है!



Dekhna takreer ke lajjat ki jo usane kaha,
Maine yah jana ki goya yah bhi mere dil me hain.



मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना!



Meh vo kyo bahut pite Jakhm-E-gair me ya rab,
Aaj hi hua manjur un ko imtihan apna.



मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते “ग़ालिब”
अर्श से इधर होता काश के मकान अपना!



Manjar ek bulandi par aur ham bana sakte “Galib”,
Arsh se idar hota kash ke makan apna.



हर एक बात पे कहते हो तुम कि ‘तू क्या है’
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है!



Har ek baat pe kahte ho tum ki tu kya hain,
Tumhi kaho ki ye Andaj-E-guftgu kya hain.



न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंद-ख़ू क्या है!



Na shole me ye karishma na bark me ye ada,
Koi batao ki vo shokhe-tund-khu kya hain.



ये रश्क है कि वो होता है हमसुख़न तुमसे
वर्ना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़िए-अ़दू क्या है!



Ye rashk hain ki vo hota hain hamsukhan tumse,
Varna Khauf-E-Aamojie-Adu kya hain.



चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी जेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है!



Chipak raha hain badan par lahu se pairahan,
Hamari jeb ko ab Hajat-E-Rafu kya hain.



जला है जिस्म जहाँ, दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है!



Jala hain jism jaha, dil bhi jal gaya hoga,
Kuredate ho jo ab rakh justju kya hain.



रगों में दौड़ने-फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख ही से न टपका, तो फिर लहू क्या है!



Rago me daudane-Firne ke ham nahi kayal,
Jab aankh hi se na tapka to fir lahu kya hain.



वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए वादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है!



Vo cheeze jiske liye hamko ho bahisht ajeej,
Sivaye Vada-E-Gulfam-E-Mushkbu kya hain.



पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो-चार
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है!



Piyu sharab agar khum bhi dekh lu do-char,
Ye Shisha-O-Kadah-Kuja-O-Subu kya hain.



रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है!



Rahi na Takat-E-Guftar aur agar ho bhi,
To kis ummid pe kahiye ki aarju kya hain.



हुआ है शाह का मुसाहिब, फिरे है इतराता
वरना शहर में “ग़ालिब” की आबरू क्या है!



Hua hain shah ka musahib fire hain itrata,
Varna shahar me “GALIB” ki aabru kya hain.



ग़ैर लें महफ़िल में बोसे जाम के
हम रहें यूँ तिश्ना-लब पैग़ाम के!



Gair me mahfil me bose jam ke,
Ham rahe yu tixna-lab paigam ke.



ख़स्तगी का तुम से क्या शिकवा कि ये
हथकण्डे हैं चर्ख़-ए-नीली-फ़ाम के!



Khastagi ka tum se kya shikva ki ye,
Hathkande hain Charch-E-Nili-Fam ke.



ख़त लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के!



Khat likhenge garche matlab khuch na ho,
Ham to aashik hain tumhare nam ke.



रात पी ज़मज़म पे मय और सुब्ह-दम
धोए धब्बे जामा-ए-एहराम के!



Rat pi jamjam pe may aur subah-dam,
Dhoe shabbe Jama-E-Ehram ke.



दिल को आँखों ने फँसाया क्या मगर
ये भी हल्क़े हैं तुम्हारे दाम के!



Dil ko aankho ne fasaya kya magar,
Ye bhi halke hain tumhare dam ke.



शाह के है ग़ुस्ल-ए-सेह्हत की ख़बर
देखिए कब दिन फिरें हम्माम के!



Shah ke hain Gusl-E-Sehat ki khabar,
Dekhiye kab din fire hammam ke.



इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के!



Ishq ne galib nikamma kar diya,
Varna ham bhi aadami the kam ke.



आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तॆरी ज़ुल्फ कॆ सर होने तक!



Aah ko chahiye ek umra asar hone tak,
Kaun jita hain teri julf ke sar hone tak.



दाम हर मौज में है हल्का-ए-सदकामे-नहंग
देखे क्या गुजरती है कतरे पे गुहर होने तक!



Dam har mauj me hain Halka-E-Sadkame-Nahang,
Dekhe kya gujarti hain katre pe guhar hone tak.



आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब‌
दिल का क्या रंग करूं खून-ए-जिगर होने तक!



Aashiki sabra talab aur tamnna betab,
Dil ka kya rang karu Khun-E-Jigar hone tak.



हमने माना कि तगाफुल न करोगे लेकिन‌
ख़ाक हो जाएँगे हम तुमको ख़बर होने तक!



Hamne mana ki tagaful na karoge lekin,
Khak ho jayenge ham tumko khabar hone tak.



परतवे-खुर से है शबनम को फ़ना की तालीम
में भी हूँ एक इनायत की नज़र होने तक!



Partave-Khur se hain shabnam ko fana ki talim,
Me bhi hu ek inayat ki najar hone tak.



यक-नज़र बेश नहीं, फुर्सते-हस्ती गाफिल
गर्मी-ए-बज्म है इक रक्स-ए-शरर होने तक!



Ek-Najar besh nahi, Fursate-Hasti Gafil,
Garmi-E-Bajm hain ek Raks-E-Shahar Hone tak.



गम-ए-हस्ती का ‘असद’ कैसे हो जुज-मर्ग-इलाज
शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक!



Gam-E-Hasti ka “Asad” kaise ho Juj-Marg-Ilaj,
Shama har rang me jalti hain sahar hone tak.



इश्क़ मुझको नहीं, वहशत ही सही
मेरी वहशत तेरी शोहरत ही सही!



Ishq mujako nahi bahshat hi sahi,
Meri bahshat teri shoharat hi sahi.



क़त्अ कीजे, न तअल्लुक़ हम से
कुछ नहीं है, तो अदावत ही सही!



Katl kije na ta alluk ham se,
Kuch nahi hain to adavat hi sahi.



मेरे होने में है क्या रुसवाई
ऐ वो मजलिस नहीं, ख़ल्वत ही सही!



Mere hone me hain kya rusvai,
E vo majlis nahi khalvat hi sahi.



हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने
ग़ैर को तुझसे मुहब्बत ही सही!



Ham bhi dusman to nahi hain apne,
Gair ko tujase mahobbat hi sahi.



हम कोई तर्के-वफ़ा करते हैं
ना सही इश्क़, मुसीबत ही सही!



Ham koi Tarke-Vafa karte hain,
Na sahi ishq,Mushibat hi sahi.



हम भी तस्लीम की ख़ू डालेंगे
बेनियाज़ी तेरी आदत ही सही!



Ham bhi tasleem ki khu dalenge,
Beniyaji teri aadat hi sahi.



यार से छेड़ चली जाए ‘असद’
गर नहीं वस्ल तो हसरत ही सही!



Yaar se ched chali jaye “Asad”,
Ghar nahi vasl to hasrat hi sahi.



मिलती है ख़ू-ए-यार से नार इल्तेहाब में
काफ़िर हूँ गर न मिलती हो राहत अज़ाब में!



Milti hain khu-e-yaar se nar iltehab me,
Kafir hu ghar ho rahat ajab me.



कब से हूँ क्या बताऊँ जहान-ए-ख़राब में
शब हाए हिज्र को भी रखूँगा हिसाब में!



Kab se hu kya batau jahan-e-kharab me,
Shab haye hijra ko bhi rakhunga hisab me.



ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में!



Ta fir na intezar me nind aaye umra bhar,
Aane ka ahad kar gaye aaye jo khvab me.



क़ासिद के आते आते ख़त एक और लिख रखूँ
मैं जानता हूँ वो जो लिखेंगे जवाब में!



Kasid ke aate aate khat ek aur likh rakhu,
Main janta hu vo jo likhenge javab me.



मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में!



Muj tak kab unaki bajm me aata tha Daur-E-Jam,
Saki ne kuch mila na diya ho sharab me.



लाखों लगाव एक चुराना निगाह का
लाखों बनाव एक बिगड़ना इताब में!



Lakho lagav ek churana nighah ka,
Lakho banav ek bigdana itab me.



ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी
पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में!



Galib chuti sharaab par ab bhi kabhi kabhi,
Pita hu Roj-E-Abra-O-Shab-E-Mahtab me.



हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले!



Hajaro khwahise esi ke har khwahish pe dam nikale,
Bahut nikle mere arman lekin fir bhi kam nikle.



डरे क्यूँ मेरा क़ातिल क्या रहेगा उसकी गरदन पर
वो ख़ूँ जो चश्म ए तर से उम्र भर यूँ दमबदम निकले!



Dare kyu mera katil kya rahega usaki gardan par,
Vo khu jo chashm e tar umra bhar yu dambadan nikle.



निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बेआबरू होकर तेरे कूंचे से हम निकले!



Niklana khuld se aadam ka sunte aaye hain lekin,
Bahut beaabaru hokar tere kunche se ham nikale.



भरम खुल जाए ज़ालिम तेरे क़ामत की दराज़ी का
अगर उस तुररा ए पुरपेचोख़म का पेचोख़म निकले!



Bharam khul jaye jalim tere kamat ki daraji ka,
Agar us turara e purpechokham ka pechokham nikale.



मगर लिखवाए कोई उसको ख़त तो हम से लिखवाए
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर क़लम निकले!



Magar likhvae koi usko khat to ham se likhvae,
Hue subhah aur ghar se kan par rakhkar kalam nikle.



हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा आशामी
फिर आया वो ज़माना जो जहाँ में जामेजम निकले!



Hue is daur me mansub mujase vada aashami,
Fir aaya vo jamana jo jaha me jamejam nikale.



हुई जिनसे तवक़्क़ो ख़स्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज़्यादा ख़स्ता ए तेग ए सितम निकले,



Hue jinse tavakko khastagi ki dad pane ki,
Vo hamse bhi jyada khasta e teg e sitam nikle.



मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख के जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले!



Mahobbat me nahi hain fark jine aur marne ka,
Usi ka dekh ke jite hain jis kafir pe dam nikale.



कहाँ मैख़ाने का दरवाज़ा ग़ालिब और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले!



Kaha maikhane ka darvaja galib aur kaha vaij,
Par itana jante hain kal vo jata tha ke ham nikale.



दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िश्त दर्द से भर न आये क्यों
रोएंगे हम हज़ार बार कोई हमें सताये क्यों!



Dil hi to hain na Sang-O-Khisht dard se bhar na aaye kyo,
Royenge ham hajar bar koi hame sataye kyo.



दैर नहीं, हरम नहीं, दर नहीं, आस्तां नहीं
बैठे हैं रहगुज़र पे हम, ग़ैर हमें उठाये क्यों!



Dair nahi, Haram nahi, Dar nahi, Aasta nahi,
Baithe hain rahgujar pe ham gair hame uthaye kyo.



जब वो जमाल-ए-दिलफ़रोज़, सूरते-मेह्रे-नीमरोज़
आप ही हो नज़ारा-सोज़, पर्दे में मुँह छिपाये क्यों!



Jab vo Jamal-E-Dil faroj Surate-Menhe-Nimroj,
Aap hi ho Najara-Soj Parde me muh chipaye kyo.



दश्ना-ए-ग़म्ज़ा जांसितां, नावक-ए-नाज़ बे-पनाह
तेरा ही अक्स-ए-रुख़ सही, सामने तेरे आये क्यों!



Dasna-E-Gamja jasita, Navak-E-Naj be-pabah,
Tera hi Aks-E-Rukh sahi samne tere aaye kyo.



क़ैदे-हयातो-बन्दे-ग़म अस्ल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से निजात पाये क्यों!



Kaide-Hayate-Bande-Gam asl me dono ek hain,
Maut se pahle aadami gam se nijat paye kyo.



हुस्न और उसपे हुस्न-ज़न रह गई बुल्हवस की शर्म
अपने पे एतमाद है ग़ैर को आज़माये क्यों!



Husn aur usape husn-jan rah gai bulhvas ki sharm,
Apne pe etmad hain gair ko aajmaye kyo.



वां वो ग़ुरूर-ए-इज़्ज़-ओ-नाज़ यां ये हिजाब-ए-पास-वज़अ़
राह में हम मिलें कहाँ, बज़्म में वो बुलायें क्यों!



Va vo Gurur-E-Ijja-O-Naaj ya ye Hisab-E-Paas-Vaja,
Rah me ham mile kaha vajm me vo bulaye kyo.



हाँ वो नहीं ख़ुदापरस्त, जाओ वो बेवफ़ा सही
जिसको हो दीन-ओं-दिल अज़ीज़, उसकी गली में जाये क्यों!



Ha vo nahi khudaparast jao vo bewfa sahi,
Jisko ho Din-O-Dil ajij uski gali me jaye kyo.



‘ग़ालिब’-ए-ख़स्ता के बग़ैर कौन-से काम बन्द हैं
रोइए ज़ार-ज़ार क्या, कीजिए हाय-हाय क्यों!



Galib-E-Khsta ke bagair kaun se kam band hain,
Roeye Jar-Jar kya kijiye hay-hay kyo.



वो फ़िराक और वो विसाल कहाँ
को शब ओ रोज़ ओ माह ओ साल कहाँ!



Vo firak aur vo visal kaha,
Ko shab o roj o mah o sal kaha.



फुर्सत-ए-कारोबार-ए-शौक किसे
ज़ौक-ए-नज़ारा-ए-ज़माल कहाँ!



Fursat-E-Karobar-E-Shauk-kise,
Jok-E-Najara-E-Jamal kaha.



दिल तो दिल वो दिमाग भी ना रहा
शोर-ए-सौदा-ए-खत्त-ओ-खाल कहाँ!



Dil to dil vo dimag bhi na raha,
Shor-E-Sauda-E-Khat-O-Khal kaha.



थी वो इक शख्स की तसव्वुर से
अब वो रानाई-ए-ख़याल कहाँ!



Thi vo ek shaks ki tasbvurse,
Ab vo Ranai-E-Khayal kaha.



ऐसा आसां नहीं लहू रोना
दिल में ताक़त जिगर में हाल कहाँ!



Esa aansa nahi lahu rona,
Dil me takat jigar me hal kaha.



हमसे छूटा किमारखाना-ए-इश्क
वाँ जो जावे गिरह में माल कहाँ!



Hamse chuta kimarkhana-E-Ishq,
Vo jo jave gihar me mal kaha.



फ़िक्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूँ
मैं कहाँ और ये बवाल कहाँ!



Fikra-E-Duniya me sar khapata hu,
Main kaha aur ye baval kaha.



मुज़महिल हो गए कवा ग़ालिब
वो अनासिर में एतिदाल कहाँ!



Mujmahil ho gaye kava galib,
Vo anasir me itidal kaha.



बोसे में वो मुज़ाइक़ा न करे
पर मुझे ताक़ते सवाल कहा!



Bose me vo mujaika na kare,
Par muje takate saval kaha.



ये ना थी हमारी क़िस्मत के विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते, यही इंतजार होता!



Ye na thi hamari kismat ke Visal-E-Yar hota,
Agar Aur jite rahte yahi intjar hota.



तेरे वादे पर जिये हम, तो ये जान झूठ जाना
के खुशी से मर ना जाते, अगर ‘ऐतबार’ होता!



Tere vade par jiye ham to ye jaan juth jana,
Ke khushi se mar na jate agar “Etbar” hota.



तेरी नाज़ुकी से जाना के बँधा था ‘एहेद-ए-बोधा’
कभी तू ना तोड़ सकता, अगर उस्तुवार होता!



Teri majuki se jana ke bandha tha “Ehade-E-Bodha”
Kabhi tu na tod sakata agar ustuvar hota.
कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीर-ए-नीम कश को
ये खलिश कहाँ से होती, जो जिगर के पार होता!



ये कहाँ की दोस्ती है के बने हैं दोस्त नासेह
कोई चारासाज़ होता, कोई गम-गुसार होता!



Ye kaha ki dosti hain ki bane hain dost naseh,
Koi charasaj hota koi gam-gusar hota.



रग-ए-संग से टपकता, वो लहू की फिर ना थमता
जिसे गम समझ रहे हो, ये अगर शरार होता!



Rag-E-Sang se tapkata vo lahu ki fir na thamta,
Jise gam samaj rahe ho ye agar sharab hota.



ग़म अगरचे जान-गुलिस हैं , पे कहाँ बचें के दिल हैं
ग़म-ए-इश्क़ गर ना होता, ग़म-ए-रोज़गार होता!



Gam agarche Jan-Gulish hain pe kaha bache ke dil hain,
Gam-E-Ishq gar na hota Gam-E-Rojgar hota.



कहूँ किस से मैं के क्या हैं शब-ए-ग़म बुरी बला हैं
मुझे क्या बुरा था मरना अगर एक बार होता!



Kahu kis se main ke kya hain Shab-E-Gam buri bala hain,
Muje kya bura tha marna agar ek baar hota.



हुए मर के हम जो रुसवा, हुए क्यों ना गर्क-ए-दरिया
ना कभी जनाज़ा उठता, ना कहीं मज़ार होता!



Hue mar ke ham jo rusva hue kyo na Gark-E-Dariya,
Na kabhi janana uthta na kahi majar hota.



उसे कौन देख सकता के यगान हैं वो यक्ता
जो दूई की बू भी होती, तो कहीं दो चार होता!



Use kaun dekh sakta ke yagan hain vo yakta,
Jo dui ki bu bhi hoti to kahi do char hota.



ये मसाइल-ए-तसव्वुफ़, ये तेरा बयान ‘ग़ालिब’
तुझे हम वली समझते, जो ना बादा-ख्वार होता!



Ye Masahal-E-Tasabbuf ye tera bayan “GALIB”,
Tuje ham vahi samjate jo na Vada-Khvar hota.



दोस्त ग़म-ख़्वारी में मेरी सई फ़रमावेंगे क्या
ज़ख़्म के भरते तलक नाख़ुन न बढ़ जावेंगे क्या!



Dost Gam-Khvari me meri sai farmavenge kya,
Jakhm ke bharte talak nakhun na bhadh javenge kya.



बे-नियाज़ी हद से गुज़री बंदा-परवर कब तलक
हम कहेंगे हाल-ए-दिल और आप फ़रमावेंगे क्या!



Be-niyaji had se gujari Banda-parvar kab tak talak,
Ham kahenge Hal-E-Dil aur aap farmavenge kya.



हज़रत-ए-नासेह गर आवें दीदा ओ दिल फ़र्श-ए-राह
कोई मुझ को ये तो समझा दो कि समझावेंगे क्या!



Hajrat-E-Naseh ghar aave dida o dil Farsh-E-Rah
Koi muj ko ye to samja do ki samjavenge kya.



आज वाँ तेग़ ओ कफ़न बाँधे हुए जाता हूँ मैं
उज़्र मेरे क़त्ल करने में वो अब लावेंगे क्या!



Aaj va teg o kafan bandhe hue jata hu me,
Ujra mere katl karne me vo ab lavenge kya.



गर किया नासेह ने हम को क़ैद अच्छा यूँ सही
ये जुनून-ए-इश्क के अंदाज़ छुट जावेंगे क्या!



Ghar jiya naseh ne ham ko kaid acha yu sahi,
Ye Junun-E-Ishq ke andaj chut javenge kya.



ख़ाना-ज़ाद-ए-ज़ुल्फ़ हैं ज़ंजीर से भागेंगे क्यूँ
हैं गिरफ़्तार-ए-वफ़ा ज़िंदाँ से घबरावेंगे क्या!



Khana-Jad-E-Julf hain janjir se bhagenge kyu,
Hain Girftar-E-Vafa jinda se ghabhravenge kya.



है अब इस मामूरे में क़हत-ए-ग़म-ए-उल्फ़त असद
हम ने ये माना कि दिल्ली में रहें खावेंगे क्या!



Hain ab is mamure me Kahat-E-Gam-E-Ulfat asad,
Ham ne ye mana ki dilli me rahe khavenge kya.



सब कहाँ कुछ लाला-ओ-गुल में नुमायाँ हो गईं
ख़ाक में क्या सूरतें होंगी कि पिन्हाँ हो गईं!



Sab kaha kuch Lala-O-gul me numaye ho gaye,
Khak me kya surate hogi ki pinha ho gae.



याद थी हमको भी रन्गा रन्ग बज़्माराईयाँ
लेकिन अब नक़्श-ओ-निगार-ए-ताक़-ए-निसियाँ हो गईं!



Yaad thi hamko bhi ranga bajmaraiya,
Lekin ab Naksh-O-Nigar-E-Tak-E-Nisiya ho gay.



थीं बनातुन्नाश-ए-गर्दूँ दिन को पर्दे में निहाँ
शब को उनके जी में क्या आई कि उरियाँ हो गईं!



Thi Banatunash-E-Gardu din ko parde me niha,
Shab ko unke ji me kya aai ki uriya ho gay.



क़ैद में याक़ूब ने ली गो न यूसुफ़ की ख़बर
लेकिन आँखें रौज़न-ए-दीवार-ए-ज़िंदाँ हो गईं!



Kaid me yaakun ne li go na yusuf ki khabar,
Lekin aankhe Raujan-E-Deevar-E-Jinda gae.



सब रक़ीबों से हों नाख़ुश, पर ज़नान-ए-मिस्र से
है ज़ुलैख़ा ख़ुश के मह्व-ए-माह-ए-कनाँ हो गईं!



Sab rakibo se ho nakhush par janan-e-mistra se
Hain juleja khush ke manh-e-mah-e-kana ho gaye.



VIDEO CREDIT :- Banana Poetry



HELLO DOSTO AAJ HAM AAPKE LIYE MIRZA GHALIB KI SHAYARI LEKE AAYE HAIN. AAP ISKO PATH KE AAPKI RAY HAME JARUR COMMENT KARKE BATATE.

AUR AAP HAME SOCIAL MEDIA PE BHI FOLLOW KAR SAKTE HAIN.. FACEBOOK , INSTAGRAM , LINKED , TWITTER , PINTREST .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *