Sad Quotes In Hindi About Life

Sad Life Quotes In Hindi

Sad Quotes In Hindi About Life | {299+} Sad Quote in Hindi (2021)



Sad Life Quotes In Hindi – Very Sad Quotes About Life In Hindi, Sad Quotes About Life And Pain In Hindi, Sad Girl Quotes About Life In Hindi, Sad Quotes About Life And Pain In Hindi With Images, Sad Quotes In Hindi About Life Images, Sad Quotes About Life And Death In Hindi, Sad Quotes About Life And Pain Of Love In Hindi, Sad Inspirational Quotes About Life In Hindi, Best Sad Quotes About Life In Hindi, Sad Crying Quotes About Life In Hindi



इज्जत ने बनाये हुए रिश्ते,
महोब्बत से बनाए हुए रिश्ते से ज्यादा बेहतर और गहरे होते है।



Ijjat ne banaye hue rishte,
Mahobbat se banaye hue rishte se zyada behtar or gehre hote hai.



मीठे का शोक इसलिए भी रखते है,
क्योंकि जिन्दगी की हकीकत बहुत कडवी होती है।



Mithe ko shok isliye bhi rakhte hai,
Kyoki jindgi ki hakikat bahut kadwi hoti hai.



समय ना लगाओ ये तय करने में कि आपको करना क्या है,
वरना समय तय कर लेगा की आपका करना क्या है।



Samay na lagao ye tay karne me ki aapko kya karna hai,
Varna samay tay kar lega ki aapka kya karna hai.



जो लिबासो को बदलने का शोक रखते थे,
आखिर वक्त कह भी ना पाए कि कफ़न ठीक नहीं था।



Jo libaso ko badalne ka shok rakhte hai,
Aakhiri wakt keh bhi na paye ki kafan thik nahi tha.



पैसा नमक की तरह होता है जो ज़रूरी तो होता है,
लेकिन ज़रूरत से ज्यादा होने पर स्वाद बिगड़ जाता है।



Paisa namak ki tarah hota hai jo zaruri hota hai,
Lekin zarurat se zyada hone par swad bigad jata hai.



हवा की तरह होती है मुसीबते भी,
कितनी भी खिड़कियाँ बंद कर लो अन्दर आ ही जाती है।



Hawa ki tarah hoti hai musibate bhi,
Kitni bhi khidkiya band kar lo andar aa hi jati hai.



मर तो एक दिन वैसे भी जाना है,
बस तुम मिल जाते तो जी लेते जरा।



Mar to ek din waise hi jana hai,
Bas tum mil jate to je lete jara.



एक चीज़ जो कभी भी हमारी नहीं होती वो है “गलती”।



Ek chiz jo kabhi bhi hamari nahi hoti wo hai “Galti”.



कुछ बातों के मतलब है और कुछ मतलब की बातें,
जब से फर्क समझा जिन्दगी जीना आसान हो गया।



Kuch bato ke matlab hai or kuch matlab ki baatein,
Jab se fark samjha jindgi jeena asaan ho gaya.



सिर्फ गुलाब देने से अगर महोब्बत हो जाती,
तो माली सारे शहर का महबूब होता।



Sirf gulaab dene se agar mahobbat ho jati,
To mali sare sehar ka mahboob hota.



उस देश में औरत का रुतबा कैसे बुलंद हो सकता है,
जहाँ मर्दों की लड़ाई में गालियाँ माँ-बहन की दी जाती हो।



Us desh me aurat ka rutba kaise buland ho sakta hai,
Jaha mardo ki ladai me galiya ma-behan ki di jati ho.



खुश रहने का एक उपाय यह होता है केवल उन्ही से वास्ता रखो,
जिनसे हमारा मन मिलता हो।



Khush rehne ka ek upaye yah hota hai kewal unhi se vasta rakho,
Jinse hamara man milta ho.



लोग तसल्लियाँ तो देते है पर साथ नहीं !!



“सोचा था एक घर बनाकर बैठूंगा सुकून से !
लेकिन घर की ज़रूरतो ने मुसाफिर बना दिया !!”



“भूलने वाली बातें याद हैं !
इसलिए ज़िन्दगी में विवाद है !!”



“गुज़र जायेगा ये दौर भी ज़रा सब्र तो रख !
जब खुशियाँ ही न रुकी तो ग़म की क्या औकात
है !!”



“चेहरे बदल जाए तो कोई तकलीफ नहीं !
अगर लेहज़े बदल जाए तो बहुत तकलीफ होती
है !”



“बहुत अंदर तक तबाह कर देते हैं !
वो अश्क़ जो आँखों से गिर नहीं पाते !!”



“किसी इंसान को दर्द देना इतना आसान होता है
जितना समुद्र में पत्थर फेकना !
लेकिन यह कोई नहीं जनता की वह कितनी
गहराई तक गया होगा !!”



“ज़िन्दगी में मंज़िले तो मिल ही जाती हैं !
लेकिन वो लोग नहीं मिलते जिन्हें दिल से चाहा
हो !”‘



“छोटे बच्चे के निकले आंसू और प्यार में निकले
आंसू दोनों एक सामान हैं !
दोनों को पता है कि दर्द कहा है लेकिन किसी को
बता नहीं सकतें !!”



“आँसुओ का कोई वज़न नहीं होता !
लेकिन निकल जाने पर मन हल्का हो जाता है !!



“बनना है तो किसी के दर्द की दवा बनो !
जख्म तो हर इंसान देता है !!”



“दिल में आने का रास्ता तो होता है, लेकिन जाने
का नहीं !
इसलिए जो भी जाता है दिल तोड़कर जाता
है !!”



“हुस्न वाले जब तोड़ते हैं दिल किसी का !
बड़ी मासूमियत से कहते हैं मजबूर थे हम !!



“हर किसी में तुझे पाने की कोशिश की !
बस एक तुझे न पाने के बाद !!



“हँसकर दर्द छुपाने का हुनर मशहूर था मेरा !
पर कोई हुनर काम न आया जब तेरा नाम
आया !!”



“जल्दी सो जाया करो दोस्तों !
यूँ रातभर जागने से मोहब्बत लौट कर नहीं
आती !!”



“यूँ सिमट गया मेरा प्यार चंद अल्फाज़ो में !
जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नहीं !!”



“ज़रा सी वक़्त ने करवट क्या ली !
गैरों की लाइन में सबसे आगे अपनों को पाया
हमने !!”



“लोग कहते हैं दु:ख बुरा होता है जब भी आता है
रुलाकर जाता है !
लेकिन हम कहते दु:ख अच्छा होता है जब भी
आता है कुछ सीखा कर जाता है !!”



“रूठूँगा तुझसे तो इस क़दर रूठूँगा
तेरी आँखे तरस जाएगी मेरी एक झलक को !!”



“यही सोचकर सफाई नहीं दी हमने !
इल्ज़ाम भले ही झूठे हैं पर लगाए तो तुमने हैं !!”



“मैं कहाँ जनता हूँ दर्द की क़ीमत !
मेरे अपनों ने मुझे मुफ्त में दिया है !!”



“मेरी हर आह ! के बदले वाह ! मिली है मुझको !
कौन कहता है कि दर्द बिकता नहीं !!”



“तू मेरी चाहत का एक लफ्ज़ भी नहीं पढ़ सकी !
और मैं तेरे दिए हुए दर्द की किताब को रोज़
पढ़ते पढ़ते सोता हूँ !!”



“तुम अपने ज़ुल्म की इन्तेहा करदो !
क्या पता फिर कोई हमसे बेज़ुबाँ मिले न मिले !!”



“रिश्तें उन्ही से बनाओ !
जो निभाने की औकात रखते हों !!”



“धोखा देने के लिए शुक्रिया तेरा !
तुम न मिलती तो दुनिया की समझ न आती !!”



“ये दिन भी क़यामत की तरह गुज़रा है !
न जाने क्या बात थी हर बात पर रोना आया !!”



“न जाने किस कॉलेज से ली थी मोहब्बत की
डिग्री उसने !
जितने भी मुझसे वादे किये थे सब फ़र्ज़ी
निकले !!”



“कोई सिखादे मुझे भी अपने वादों से मुक़र
जाना !
बहुत थक चुका हूँ निभाते-निभाते !!”



“अभी धूप निकलने के बाद भी जो सोया है !
वो ज़रूर तेरी याद में रातभर रोया है !!”



“उम्मीद से बढ़कर निकली तुम तो !
मैंने तो सोचा था दिल ही तोड़ोगी तुमने तो मुझे
ही तोड़ दिया !!”



“जो लोग दर्द को समझते हैं !
वो लोग कभी दर्द की वजह नहीं बनते !!”



“मैं हमेशा डरता था उसे खोने से !
उसने ये डर ही ख़त्म कर दिया मुझे छोड़कर !!”



“जहां कभी तुम हुआ करते थे !
वहां अब दर्द होता है !!”



“आज तन्हा हुए तो अहसास हुआ !
कई घण्टे होते है एक दिन में !!”



“मेरी ख़ामोशी हज़ार आवाज़े लगाती है !
पर अफ़सोस वो तुम सुन नहीं सकतें !!”



“कुछ बातें समझाने से नहीं !
खुद पर बीत जाने से समझ आती हैं !!”



“लोग कहते हैं हमसे तुम बहुत बदल गए हो !
तो अब क्या टूटे हुए पत्ते रंग भी न बदलें !!”



“मुस्कुराते हुए इंसान की कभी जेबे देखना !
हो सकता है रूमाल गिला मिले !!”



“हिम्मत नहीं इतनी की दस्ताने ज़िन्दगी सुना सकें
अपनी !
मुख़्तसर सी सुनो जिसने भी दिल तोड़ा जी भर
के तोड़ा !!”



“वो किताबों में लिखा नहीं था !
जो सबक़ ज़िन्दगी ने सिखाया मुझे !!”



“कोशिशों के बाद भी जो पूरी न हो सकें !
तेरा नाम भी उन्हीं ख्वाहिशों में है !!”



“ज़िन्दगी की हक़ीक़त को बस इतना ही जाना है !
दर्द में अकेले हैं खुशियों में ज़माना है !!”



“न जाने किस दरबार का चिराग़ हूँ मैं !
जिसका दिल करता है जलाकर छोड़ देता है !!”



“जिनके दिल पर चोट लगती है !
वो अक्सर आँखों से नहीं दिल से रोते हैं !!”



“निकाल दिया उसने मुझे अपनी ज़िन्दगी से भीगे
कागज़ की तरह !
न लिखने के क़ाबिल छोड़ा न जलने के !!”



“इश्क़ सिर्फ मुझे हुआ था !
उसे तो बस कुछ पल का नशा हुआ था !!”



“जिस्म के ज़ख्म का इलाज तो मुमकिन है !
लेकिन रूह के ज़ख्म का हकीम नहीं कोई !!”



“हो सकें तो अब कोई सौदा न करना !
पिछली दिल्लगी में सब कुछ हार चुका हूँ मैं !!”



“जो लोग सबकी फ़िक्र करते हैं !
अक्सर उनकी फ़िक्र करने वाला कोई नहीं
होता !!”



“तेरे बाद हमने दिल का दरवाज़ा खोला ही नहीं !
वरना बहुत से चाँद आए इस घर को सजाने के
लिए !!”



“अगर क़िस्मत लिखने का हक़ मेरी माँ का होता !
तो मेरी ज़िन्दगी में एक भी ग़म न होता !!”



“मेरी कोशिश हमेशा से नाकाम रही !
पहले तुम्हें पाने की अब तुम्हें भुलाने की !!”



“नाज़ुक लगते थे जो लोग !
वास्ता पड़ा तो पत्थर के निकले !!”



“तुमसे मोहब्बत करने का गुनाह किया था !
तुमने तो पल पल मरने की सज़ा दे दी !!”



“भूल जाना तो ज़माने की फितरत है !
पर तुमने शुरुआत हमसे ही क्यों की !!”



“दर्द कम नहीं हुआ है मेरा !
बस सहने की आदत हो गयी है !!”



“वो मेरे साथ चलते तो थे !
मगर किसी और की तलाश में !!”



“दुबारा इश्क़ होगा तो तुझसे ही होगा !
खफा हूँ मैं बेवफा नहीं !!”



“क्या फायदा है अब रोने से !
जो प्यार न समझा वो दर्द क्या समझेगा !!”



“मेरे ग़म का छोटा सा हिस्सा लेकर तो देखो !
मरने की ख्वाहिश न करने लगे तो कहना !!”



“जब तुम्हारा दिल चाहे लौट आना !
इंतेज़ार की आदत है मुझे !!”



“मोहब्बत सच्ची हो तो लौट कर ज़रूर आती है !
खैर छोड़ो सब कहने की बाते हैं !!”



“मुझसे बिछड़ के ख़ुश रहते हो !
लगया है मेरी तरह तुम भी झूठे हो !!”



“मुझे कहाँ से आएगा लोगों का दिल जीतना !
मैं तो अपना भी हार बैठा हूँ !!”



“लोग कहते है समझो तो खामोशियाँ भी बोलती
हैं !
मैं बरसो से खामोश हूँ और बरसो से बेखबर !!”



“सुना है मोहब्बत मिलती है मोहब्बत के बदले !
हमारी बारी आई तो रिवाज ही बदल गया !!”



“एक उम्र बीत गयी तुझे चाहते हुए !
तू आज भी बेखबर है कल की तरह !!”



“मेरे बर्दाश्त करने का अंदाज़ा तू क्या लगायेगी !
तेरी उम्र से कही ज़्यादा मेरे जिस्म पर ज़ख्मो के
निशाँ हैं !!”



“तमन्नाओ की महफ़िल तो हर कोई सजाता है !
पर पूरी उसकी होती है जो तक़दीर लेकर आता
है !!”



“सूखे पत्ते की तरह थे हम !
किसी ने समेटा भी तो सिर्फ जलाने के लिए !!”



“तजुर्बा एक बार का ही इबरत के लिए काफ़ी
था !
मैंने देखा नहीं इश्क़ दुबारा करके !!”



“अगर मुमकिन हो तो मुझे अपना बनालो तुम !
मेरी तन्हाईयाँ गवाह है मेरा अपना कोई भी
नहीं !!”



“अभी तक मौजूद हैं मेरे दिल पर तेरे क़दमों के
निशाँ !
हमने तेरे बाद इस राह से किसी को गुज़रने नहीं
दिया !!”



“ज़िन्दगी में कभी अगर मेरा ख्याल आये तो एक
बार सोचना ज़रूर !
वो कौन सी मोहब्बत थी जो हम तुम्हें न दें
सकें !!”



“वो एक ख़त जो उसने कभी लिखा ही नहीं !
मैं हर रोज़ उसका जवाब तलाश करता हूँ !!”



“तेरे बाद न आएगी इस ज़िन्दगी अब कोई और !
एक मौत है जिसकी हम क़सम नहीं दें सकतें !!”



“बहुत कुछ बदला है मैंने अपने आप में !
लेकिन तुझे याद करने की वो आदत आज भी
बाक़ी है !!”



“लोग हमेशा गलत इंसान से धोखा खाने के बाद !
अच्छे इंसान से बदला लेते हैं !!”



“मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में !
बस हम गिनती उसकी करते हैं जो हासिल न हो
सका हो !!”



“वो हमसे पूछते हैं कहाँ रहते हो आज कल !
काश ! हमसे पूछने से पहले उन्होंने अपने दिल में
झाँक लिया होता !!”



“इतनी बदसलूकी न कर ए ज़िन्दगी !
हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले हैं !!”



“नादान हैं वो लोग जो इश्क़ नहीं करते !
अरे ! जिगरा चाहिए बर्बाद होने के लिए !!”



“दर्द मुझको ढूंढ़ लेता है रोज़ नए बहाने से !
वो हो गया वाक़िफ़ मेरे हर ठिकाने से !!”



“अपनी पीठ से निकले खंजरों को जब गिना मैंने !
ठीक उतने ही निकले जितनो को गले लगाया था
मैंने !!”



“हमें पता है तुम कहीं और के मुसाफिर हो !
हमारा शहर तो बस यूंही रास्ते में आया था !!”



“माना मौसम भी बदलते हैं मगर धीरे-धीरे !
तेरे बदलने की रफ़्तार से तो हवाएं भी हैरान
हैं !!”



“असली तकलीफ तो ये ज़िन्दगी देती है !
मौत तो बस यूंही नाम से बदनाम है !!”



“बहुत खूबसूरत है न मेरा ये वहम !
कि तुम जहां भी हो सिर्फ मेरे हो !!”



“ज़िन्दगी में कुछ ज़ख्म ऐसे होते है जो कभी नहीं
भरते !
बस इंसान उन्हें छुपाने का हुनर सीख जाता
है !!”



“क़ाश तुम मेरे होते !
क़ाश ये अल्फाज़ तेरे होते !!”



“कौन समझ पाया आज तक हमें !
हम अपने हादसों के अकेले गवाह हैं !!”



“मोहब्बत भी उधार की तरह है !
लोग ले तो लेते है मगर देना भूल जाते हैं !!”



“मुझे यकीन है एक दिन तुम्हारी आँखों में मेरे लिए
आंसू आएंगे ज़रूर !
चाहे वो दिन मेरी मौत का दिन ही क्यों न हो !!”



“आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम !
किसने कह दिया तुझे भूल गए हम !!”



“दिल को तोड़कर जाने से क्या हासिल हुआ
तुमको !
मार ही देते तो यूं रात की तन्हाई में रोना न
पड़ता !!”



“सफर ज़िन्दगी का ज़रा छोटा था उसके साथ !
पर वो शख्स एक याद सा हो गया पूरी ज़िन्दगी
के लिए !!”



“मोहब्बत और नौकरी में कोई फर्क नहीं !
इंसान करता रहेगा, रोता रहेगा पर छोड़ेगा
नहीं !!”



“तरस गए हैं हम तेरे मुँह से कुछ सुनने को !
प्यार की बात न सही कोई शिकायत ही कर
दें !!”



तुझे भुलाने की जिद्द थी,
अब भुलाने का ख्वाब है,
ना जिद्द पूरी हुई और ना ही ख्वाब।



Tujhe bhulane ki jidd thi,
Ab bhulane ka khwab hai,
Na jidd puri hui na hi khwab.



जब इंसान तन्हा चलना सीख जाता है,
तब वो दुनिया को समझ चुका होता है।



Jab insaan tanha chalna seekh jata hai,
Tab wo duniya ko samajh chuka hota hai.



अकेले रहने में और,
अकेले हो जाने में,
बहुत फर्क होता है।



Akele rehne me or,
Akele ho jane me,
Bahut fark hota hai.



उदास लोगो की मुस्कुराहट,
सबसे खूबसूरत होती है।



Udas logo ki muskurahat,
Sabse khoobsurat hoti hai.



दुश्मन से ज्यादा खतरनाक वो है,
जो दोस्त बनकर धोका देते है।



Dushman se zyada khatarnak wo hai,
Jo dost bankar dhokha dete hai.



अक्सर उन लोगो के दिल टूटे होते है,
जो सबका दिल रखने की कोशिश करते है।



Aksar un logo ke dil toote hue hote hai,
Jo sabka dil rakhne ki kosish karte hai.



जिंदगी में जो चाहो हासिल कर लो,
बस इतना ख्याल रखो कि,
आपकी मंजिल का रास्ता कभी,
लोगो के दिलो को तोड़ता हुआ ना गुजरे।



Jindgi me jo chaho hasil kar lo,
Bas itna khyal rakho ki,
Aapki manjil ka rasta kabhi,
Logo ke dilo ko todta h ua na gujre.



झुकने से रिश्ता गहरा हो तो झुक जाओ,
पर हर बार आपको ही झुकना पड़े तो रुक जाओ।



Jhukne se rishta gehra ho to jhuk jao,
Par har baar aapko hi jhukna pade to ruk jao.



कोई किसी का नहीं होता दुनिया में,
जब दिल भर जाता है,
तो लोग याद करना भी छोड़ देते है।



Koi kisi ka nahi hota duniya me,
Jab dil bhar jata hai,
To log yaad karna bhi chhod dete hai.



जब इंसान अन्दर से टूटता है,
तो बहार से खामोश हो जाता है।



Jab insaan andar se toot ta hai,
To bahar se khamosh ho jata hai.



इंसान अपनी कमाई के हिसाब से नहीं,
अपनी ज़रूरत के हिसाब से गरीब होता है।



Insaan apni k amai ke hisaab se nahi,
Apki zarurat ke hisaab se gareeb hota hai.



कितना मुश्किल होता है उस शख्स को मनाना,
जो रूठा भी ना हो और बात भी ना करे।



Kitna mushkil hota hai us shaksh ko manana,
Jo rutha bhi na ho or baat bhi na kare.



आज तो हम ख़ूब रुलायेंगे उन्हें,
सुना है उसे रोते हुए लिपट जाने की आदत है।



Aaj to hum khoob rulayenge unhe,
Suna hai use rote hue lipat jane ki aadat hai.



कभी-कभी हम किसी के लिए उतना भी ज़रूरी नहीं होते,
जितना की हम सोचते है।



Kabhi kabhi hum kisi ke liye utna bhi zaruri nahi hote,
Jitna ki hum sochte hai.



किसी को इतना भी ना चाहो कि,
फिर भुला ही ना सको।



Kisi ko itna bhi na chaho ki,
Fir bhula hi na sako.



वो ढूँढ रहे थे मुझे भूल जाने के तरीके,
मैंने उनसे खफा होकर उनकी मुश्किल आसान कर दी।



Wo dhoond rahe the mujhe bhul jane ke tarike,
Maine unse khafa hokar unki mushkil asaan kar di.



चलो अब जाने भी दो क्या करोगे दास्ताँ सुनकर,
ख़ामोशी तुम समझोगे नहीं और बयाँ हमसे होगा नहीं।



Chalo ab jane bhi do kya karoge dastan sunkar,
Khamoshhi tum samjhoge nahi or baya humse hoga nahi.



अगर सजा दे ही चुके हो तो हाल न पूछना,
हम अगर बेगुनाह निकले तो तुम्हे अफ़सोस होगा।



Agar saja de hi chuke ho to haal na puchna,
Hum agar begunaah nikle to tumhe afsoos hoga.



हकीकत कुछ और ही होती है,
हर गुमसुम इन्सान पागल नहीं होता।



Hakikat kuch or hi hoti hai,
Har gumsum insaan pagal nahi hota.



बहुत मजबूत हो जाते है वो लोग,
जिनके पास खोने को कुछ नहीं बचता।



Bahut majboot ho jate hai log,
Jinke paas khone ko kuch nahi bachta.



पसंद है मुझे उन लोगो से हारना, जो मेरे हारने की वजह से पहली बार जीते है।



Pasand hai mujhe un logo se haarna,
Jo mere harne ki wajah se pehli baar jite hai.



हम उनसे तो लड़ लेंगे जो खुलेआम दुश्मनी करते है,
लेकिन उनका क्या करे जो लोग मुस्कुरा के दर्द देते है।



Hum unse to lad lenge jo khule aam duhmani karte hai,
Lekin unka kya kare jo log muskura ke dard dete hai.



चले जायेंगे तुझे तेरे हाल पर छोड़कर,
कदर क्या होती है ये तुझे वक्त सिखा देगा।



Chale jayenge tujhe tere haal par chhodkar,
Kadar kya hoti hai ye tujhe wakt sikha dega.



एक सवेरा था जब हंसकर उठते थे हम,
और आज कई बार बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है।



Ek savera tha jab hanskar uth te the hum,
Or aaj kai baar bina muskuraye hi shaam ho jati hai.



फ़रियाद कर रही है तरसी हुई निगाह,
किसी को देखे हुए अरसा हो गया है।



Fariyad kar rahi hai tarsi hui nigah,
Kisi ko dekhe hue arsa ho gaya hai.



अपनाने के लिए हजार खूबियाँ भी कम है,
छोड़ने के लिए एक कमी ही काफी है।



Apnanae ke liye hajar khubiya bhi kam hai,
Chhodne ke liye ek kami hi kafi hai.



दिल के दर्द को छुपाना कितना मुश्किल है,
टूट के फिर मुस्कुराना उतना ही मुश्किल है…
किसी के साथ दूर तक जाओ और फिर देखो,
अकेले लौट के आना कितना मुश्किल है।



Dil ke dard ko chupana kitna mushkil hai,
Toot ke fir muskurana utna hi muskil hai…
Kisi ke saath door tak jao for fir dekho,
Akele laut ke aana kitna mushkil hai.



इस दिल में प्यार था कितना,
वो जान लेते तो क्या बात होती…
हमने माँगा था उन्हें खुदा से,
वो भी मांग लेते तो क्या बात होती।



Is dil me pyar tha kitna,
Wo jaan lete to kya baat hoti…
Humne manga tha unhe khuda se,
Wo bhi mang lete to kya baat hoti.



बड़ी हिम्मत दी है उसकी जुदाई ने,
न ही किसी को खोने का डर है…
और ना ही किसी को पाने की चाह।



Badi himmat di hai uski judaai ne,
Na hi kisi ko khone ka dar hai…
Or na hi kisi ko pane ki chah.



मेरी ख़ामोशी से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता,
और शिकायत में दो लफ्ज कह दू तो वो चुभ जाते है।



Meri khamoshi se kisi ko koi fark nahi padta,
Or shikayat me do lafj kah do to wo chubh jate hai.



रखा करो नजदीकियाँ,
जिन्दगी का कुछ भरोसा नहीं…
फिर मत कहना चले भी गए,
और बताया भी नहीं।



Rakha karo najdikiya,
Jindgi ka kuch bharosa nahi…
Fir mat kehna chale bhi gaye,
Or bataya bhi nahi.



जिस व्यक्ति का दिल साफ़ होता है,
वो उतना ही इमोशनल भी होता है।



Jis vyakti ka dil saaf hota hai
Wo utna hi emotional bhi hota hai.



तूफ़ान आना भी ज़रूरी है इस जिन्दगी में,
तब पता चलता है कोन हाथ “छुड़ा”,
कर भाग रहा है और कोन हाथ “पकड़” कर।



Tufaan aana bhi zaruri hai is jindgi me,
Tab pata chalta hai kon haath,
Chuda kar bhaag raha hai or kon haath pakad kar.



अब मुझे तकलीफ नहीं होती चाहे मुझे कितनी ही ऊंचाईयों से गिराया जाये,
क्योंकि मुझे उन हाथो ने धक्का दिया है जिनपर मुझे खुद से ज्यादा यकीन था।



Ab mujhe takleef nahi hoti chahe mujhe kitni bhi unchaiyo se giraya jaye,
Kyoki mujhe un haatho se dhakka diya hai jinpar mujhe khud se zyaa yakeen tha.


सुनने की आदत डालो क्योंकि ताने मारने वालो की कमी नहीं है…
मुस्कुराने की आदत डालो क्योंकि रुलाने वालो की कमी नहीं है…
ऊपर उठने की आदत डालो क्योंकि टांग खीचने वालो की कमी नहीं है।



Sun ne ki aadat daalo kyoki tane marne walo ki kami nahi hai…
Muskurane ki aadat daalo kyoki rulane walo ki kami nahi hai…
Uper uthne ki aadat daalo kyoki tang kheechne walo ki kami nahi hai.



हम जी भी सकते थे,
अगर तुम पे ना मरते।



Humm ji bhi sakte the,
Agar tum pe na marte.



कभी-कभी ये समझना मुश्किल हो जाता है कि जिन्दगी मजबूती चेक कर रही है,
या और भी ज्यादा मजबूत बनाने की कोशिश कर रही है।



Kabhi kabhi ye samajhna muskil ho jata hai ki jindgi majbuti check kar rahi hai,
ya or bhi zyada majboot banane ki kosish kar rahi hai.



बहुत मुश्किल से करती हूँ तेरी यादो का कारोबार,
मुनाफा कम है फिर भी गुजारा तो हो ही जाता है।



Bahut mushkil se karti hu teri yaado ka karobar,
Munafa kam hai fir bhi gujara to ho ji jata hai.



ज़रूरत से ज्यादा अच्छे बनोगे तो,
लोग निम्बू समझ कर निचोड़ देंगे।



Zarurat se zyada acche banoge to,
Log nimbu samajh kar nichod denge.



चर्चे हमेशा कमियाबी के हो ये ज़रूरी तो नहीं,
बरबादियाँ भी किसी शख्स को मशहूर कर दिया करती है।



Charche hamesha kamiyabi ke ho ye zaruri to nahi,
Barbadiya bhi kisi shaks ko mashoor kar diya karti hai.



रिश्तो की फ़िक्र होती है,
इसलिए हम बिना गलती भी माफ़ी मांग लेते है।



Rishto ki fikr hoti hai,
Isliye hum bina galti bhi mafi mang lete hai.



अगर फितरत हमारी सहने की नहीं होती,
तो हिम्मत तुम्हारी कुछ कहने की नहीं होती।



कुछ सवालो के जवाब वक्त देता है,
और जो जवाब वक्त देता है वो लाजवाब होते है।



Kuch sawalo ke jawab wakt deta hai,
Or jo jawab wakt deta hai wo lajawab hote hai.



कमियाबी के सफ़र में धुप बहुत काम आई,
छाव अगर होती तो अब तक सो गए होते।



जिन्दगी में एक बात तो तय होती है,
कि इस जिन्दगी में कुछ भी तय नहीं होता।



Jindgi me ek baat to tay hai,
Ki is jindgi me kuch bhi tay nahi hota.



नफरतो के शहर में चालाकियो के डेरे है,
यहाँ वो लोग रहते है जो तेरे मुहं पर तेरे है,
और मेरे मुहं पर मेरे है।



Nafrato ke sehar me chalakiyo ke dere hai,
Yaha wo log rehte hai jo tere muh par tere hai,
Or mere muh par mere hai.



खुश रहना है तो तारीफ सुनिए,
और बेहतर होना है तो निंदा।



यूँ ना छोड़ जिन्दगी की किताब को खुला,
बेवक्त की हवा ना जाने कोन सा पन्ना पलट दे।



Yu na chhod jindgi ki kitab ko khula,
Bewakt ki hawa na jane kon sa panna palat de.



लोग बहुत अच्छे होते है,
अगर हमारा वक्त अच्छा हो तो।



दो पहाडियों को सिर्फ पुल नहीं जोड़ते,
खाई भी जोडती है।



Do pahadiyon ko sirf pul nahi jodte,
Khai bhi jodti hai.



एक फौजी कितना भी बुढा क्यों ना हो जाये,
कहलाता तो जवान ही है।



Ek foji kitna bhi budha kyo na ho jaye,
Kehlata wo jawan hi hai.



इंसान बहुत खुदगर्ज है…
पसंद करे तो बुराई नहीं देखता,
नफरत करे तो अच्छाई नहीं देखता।



नेक बनने के लिए ऐसी कोशिश करो,
जैसी कोशिश खूबसूरत दिखने के लिए करते है।



Nek ban ne ke liye aisi kosish karo,
Jaisi kosish khoobsurat dikhne ke liye karte hai.



खामोशियाँ ही बेहतर होती है,
शब्दों से तो लोग रूठ जाते है।



धुंध में खो मत जाना,
यहाँ ढूँढ पाना कभी-कभी नामुमकिन होता है।



Dhundh me kho mat jana,
Yaha dhoond pana kabhi kabhi namumkin hota hai.



मूड के हिसाब से बोलने वाले लोग सभी के बीच अपनी छवि खुद ख़राब कर लेते है,
इसलिए जब मूड ख़राब हो तो चुप रहना ही बेहतर है।



बारिश के पानी में कोई रंग नहीं होता,
फिर भी फ़िजा को रंगीन बना देते है।



Barish ke pani me koi rang nahi hota,
Fir bhi fija ko rangeen bana dete hai.



जो इंसान जितना खामोश रहता है,
वो अपनी इज्जत को उतना ही महफूज़ रखता है।



Jo insaan jitna khamosh rehta hai,
Wo apni ijjat ko utna hi mahfooj rakhta hai.



चमक सबको नजर आती है,
लेकिन अँधेरा कोई नहीं देख पाता।



Chamak sabko najar aati hai,
Lekin andhera koi nahi dekh pata.



लोग कभी आइना नहीं देखते,
अगर आईने में चित्र की जगह चरित्र दिखाई देता।



तंग नहीं करते है हम उन्हें आजकल,
अब ये बात भी उन्हें तंग करती है।



Tang nahi karte hai hum unhe aajkal,
Ab ye baat bhi unhe tang karti hai.



उसके दामन से आती है खुशबू सुकून की,
मेरी तमाम तकलीफों को वो इकलोता जवाब है।



Uske daman se aati hai khushboo sukoon ki,
Meri tamaam takleefo ko wo iklota jawab hai.



मुझे कहना नहीं आता,
अब तुम समझना सीख जाओ।



Mujhe kehna nahi aata,
Ab tum samajhna seekh jao.



क्यों न तुम ठण्ड बन जाओ,
कितना भी खुद को बचाऊ,
तुम मुझे लग ही जाओ।



Kyo na tum thand ban jao,
Kitna bhi khud ko bachau,
Tum mujhe lag jao.



हम समझदार भी इतने है कि उनका झूठ पकड़ लेते है,
और उनके दीवाने भी इतने की फिर भी यकीन कर लेते है।



Hum samajhdaar bhi itne hai ki unka jhuth pakad lete hai,
Or unke diwane bhi itne ki fir bhi yakeen kar lete hai.



चुपचाप से तो चल रही थी जिन्दगी,
खामखा लाजवाब करते-करते चुपचाप नजर लग गई।



Chupchap se to chal rahi thi jindgi,
Khamkha lajawab karte karte chupchap najar lag gai.



जो लोग खुद अपनी गलती नहीं मानते,
उनसे वक्त मनवा लेता है।



Jo log khud apni galti nahi mante,
Unse wakt manwa leta hai.



काश मिल जाये कोई हमसफ़र हमें भी ऐसा,
जो गले लगाकर कहे रोया मत करो,
तकलीफ हमें भी होती है।



Kash mil jaye koi humsafar hume bhi aisa,
Jo gale lagakar kahe roya mat karo,
Takleef hume bhi hoti hai.



कोन समझ पाया है आज तक हमें?
हम अपने हादसों के इकलौते गवाह है।



Kon samajh paya hai aaj tak hume?
Hum apne haadso ke iklote gawah hai.



ठुकराया हमने भी बहुतो को है तेरी खातिर,
तुझसे फासला भी शायद उनकी बद्दुआओं का असर है।



Thukraya humne bhi bahuto ko teri khatir,
Tujhse fasla bhi shayad unki baddwa ka asar hai.



ये जो खामोश से अल्फाज लिखे है ना,
पढना कभी ध्यान से…
चीखते कमाल के है।



Ye jo khamosh se alfaj likhe hai na,
Padhna kabhi dhyan se…
Chikhte kamal ke hai.



कभी तो खर्च कर दिया करो मुझ पर,
यह तसल्ली तो रहे कि मामूली नहीं है हम।



Kabhi to kharch kar diya karo mujh par,
Yah tasalli to rahe ki mamuli nahi hai hum.



रात तो पाबंद है वक्त पर लौट आती है रोज,
नींद ही आवारा हो गई है आजकल।



Raat to paband hai wakt par laut aati hai roj,
Neend hi awara ho gai hai aajkal.



फूटपाथ पर सोने वाले हैरान है आती जाती गाडियों पर,
कमबख्त जिनके पास घर है वो घर क्यों नहीं जाते।



Footpath par sone wale hairaan hai aati jati gadiyo par,
Kambakht jinke paas ghar hai wo ghar kyo nahi jate.



”तुमसे” मिलने और “तुझमे” मिलने का जो फर्क है,
न वही इश्क है।



Tumse milne or tujhse milne ka jo fark hai,
Na wahi ishq hai.



पेड़ काटने आये है कुछ लोग हमारे गाँव में,
अभी धुप तेज़ है कहकर बैठे है उसकी छाव में।



Ped kaatne aaye hai kuch log hamare gaon me,
Abhi dhoop tez hai kehkar baithe hai uski chhav me.



लिखना है मुझे भी गहरा सा,
जिसे कोई भी पढ़े लेकिन समझ बस तुम सको।



Likhna hai mujhe bhi gehra sa,
Jise koi bhi padhe lekin samajh bas tum sako.



वक्त के एक दौर में इस कदर भूखा था मैं,
कि कुछ नहीं मिला तो “धोखा” ही खा लिया।



Wakt ke ek daur me is kadar bhukha tha mai,
Ki kuch nahi mila to “Dhokha” hi kha liya.



घमंड “शराब” जैसा होता है साहब,
खुद को छोड़कर सबको पता चलता है कि इसको चढ़ गई है।



Ghamand “Sharab” jaisa hota hai sahab,
Khud ko chhodkar sabko pata chalta hai ki isko chadh gai hai.



जिन्दगी ने मुझे एक चीज़ सिखा दी,
अपने आप में ही खुश रहना और किसी से कोई उम्मीद ना करना।



Jindgi ne mujhe ek chiz sikha di,
Apne aap me hi khush rehna or kisi se koi ummed nahi karna.



VIDEO CREADIT :- NEW LIFE



HELLO DOSTO AGAR AAPKO HAMARI E Sad Quotes In Hindi About Life SHAYARI HAMNE AAPKE LIYE PESH KI HAIN. TO DOSTO AAP IS SHAYARI KO PADHIYE AUR HAME JARUR BATAYE KI AAPKO E SHAYARI KESI LAGI. AUR AAP HAME SOCIAL MESIA PE FOLLOW KAR SAKTE HAIN.. FACEBOOK , LINKED , INSTAGRAM , PINTREST , TWITTER .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *