Sorry Shayari In Hindi

Sorry Shayari In Hindi

Sorry Shayari In Hindi ! {399+} Sorry Shayari ! Mafi Shayari ! माफ़ी शायरी



Sorry Shayari In Hindi – Sorry Shayari In Hindi, Sorry Shayari For GF In Hindi, Sorry Shayari In Hindi For Girlfriend, Sorry Shayari For BF In Hindi, Sorry Shayari In Hindi For Friends, Sorry Shayari For Sister In Hindi, Sorry Shayari For Best Friend In Hindi, Sorry Shayari For Wife In Hindi, Sorry Sad Shayari In Hindi, Love Sorry Shayari In Hindi , Sorry Shayari In Hindi Facebook , Sorry Shayari In Hindi Instagram, Sorry Shayari In Hindi Twitter, Sorry Shayari In Hindi Whatsapp



निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी,
आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी,
माना कि रूठ जाना यूँ आदत है आप की,
लगते मगर हैं अच्छे ये तेवर कभी कभी।



आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है।



हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया।



कभी सपने को भी दिल से लगाया करो,
किसी के ख्वाबों में आया-जाया करो,
जब भी जी हो कि कोई तुम्हें भी मनाये,
बस हमें याद करके रूठ जाया करो।



धड़कन बनके जो दिल में समा गए हैं,
हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,
आंसू निकल आये जब वो याद आ गए,
जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते हैं।



बस एक माफ़ी तौबा कभी जो इससे सताए तुम को
हाथ जोड़ें या कान पकड़ें अब और कैसे मनाये तुमको
तुम्हारे आते ही इस नगर से हमें तानाफत सी हो गई
में शरारत भी कैसे सह लूँ के छेड़ रही हैं हवाएँ भी तुमको।



नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते।



तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रौशनी न रहेगी,
क्या कहें क्या गुजरेगी दिल पर ऐ दोस्त,
जिंदा तो रहेंगे लेकिन ज़िंदगी न रहेगी।



कितना उदास है कोई तेरे जाने से
हो सके तो लौट आ किसी बहाने से
तू लाख खफा सही, एक बार तो देख
कोई बिखर सा गया है तेरे जाने से।



इस कदर मेरे प्यार का इम्तिहान मत लीजिए,
खफा हो क्यों ये तो बता दीजिए ,
माफ कर दो अगर हो गई कोई गलती,
ऐसे रूठ करके हमे सजा मत दीजिये।



दर्द गैरों को सुनाने की ज़रूरत क्या है,
अपने साथ औरों को रुलाने की ज़रूरत क्या है,
वक्त यूँही कम है मोहब्बत के लिए,
रूठकर वक्त गंवाने की ज़रूरत क्या है।



माना की भूल हो गई हमसे
पर इस तरह ना रूठो हमसे
एक बार नजरे उठा के देखो
फिर दुबारा ना करेंगे ये खता हम।



भूल से कोई भूल हो गई तो
भूल समझ कर भूल जाना,
अरे भूलना सिर्फ भूल को
भूल से हमे ना भूल जाना।



अहंकार दिखाके किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है,
कि माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये।



गुस्से में कुछ और भी हसीन लगते हो,
बस यही सोच कर तुमको खफा रखा है।



देखा है आज मुझे भी गुस्से की नज़र से,
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े हैं।



न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता।



कैसे आपको हम मनाए बस एक बार बतादो
मेरी गलती मेरा कसूर मुझे याद दिला दो।



खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।



दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।



तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी,
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी।



पलभर में टूट जाये वो कसम नहीं,
तुम्हे भूल जाये वो हम नहीं,
तुम रूठी रहो हमसे इस बात में दम नहीं.
मोहब्बत हम तुमसे करके सनाम,
न जाने किस दुनिया में खो गए,



यूँ आप सॉरी कह कर,
हमें शर्मिंदा न किया कीजिये,
हम तो बस आपके हैं,
हमें यूँ गैर न करार कीजिये।



अब तुम्हारे सॉरी का इंतज़ार नहीं होता,
सोचता हूँ मैं ही कह दूँ तुम्हें ” थैंक यू “।



अपने अतीत को एक चिट्ठी लिखना चाहता हूँ,
की गयी गलतियों की माफी लिखना चाहता हूँ।



छोटी छोटी बातों पर नजर मत हुआ करो,
अगर गलती हो जाए तो माफ़ कर दिया करो।
I am Sorry



मुझे सिर्फ एक चीज की तलाश है,
माफी की जिसकी वजह से वो रोती रहीं मुझसे दिल लगाने के बाद।



माफ कर दो मैं जब तक जिंदा रहूंगा,
उन बातों के लिए , मैं शर्मिंदा रहूंगा।
Sorry



माना मुझसे गलती हुई,
तो माफ़ कर दो ना।
छोटी छोटी बातों पर,
यूं ना रूठो ना।



हाँ माफी की हम करीब होके भी कितने दूर हुए,
पता भी नहीं कुसूर किसका जो इतना मजबूर हुए।



छोटी सी गलती के लिए ,
बड़ी सी माफी मांगते हैं,
आप बड़ा दिल रखके माफ कर दीजिए।
Sorry



यू न रहो तुम हमसे ख़फ़ा,
माफ़ कर दो हमको ज़रा,
गलती किये है मानते है हम,
उस गलती की न दो ऐसी सज़ा।



सॉरी बोल दियें वहाँ भी जहां हम गलत न थे क्योंकि,
मुझे रिश्ते निभाने की ललक थी और उसे मुझे गलत साबित करने की।



वह चाहत हमें पाने की कुछ इस कदर रखते थे,
गलती मेरी होती और माफ़ी वह मांगते हैं।



जानती हूं हर समस्या का हल माफी ही है,
लेकिन हर बार माफी ही मांगू,
कभी माफ करने का भी मौका दो।



बहुत उदास है कोई तेरे चुप हो जाने से,
हो सके तो बात कर लो किसी ना किसी बहाने से।
i am sorry



हिम्मत नहीं है मेरी की मैं बात करूं,
सच में करना चाहता हु पर माफ़ करना मजबूर हूँ।



जुबां से माफ़ करने में वक़्त नहीं लगता,
दिल से माफ़ करने में उम्र बीत जाती हैं।



अजीब शब्द है SORRY!
इंसान कहे तो झगड़ा ख़त्म,
डॉक्टर कहे तो इंसान ख़त्म।



जिंदगी की राह को हमेशा रखो साफ़,
किसी से माफी मांग लो,
तो किसी को कर दो माफ़।



माना गलती हुई थी मुझसे,
पर माफ़ करना तो तेरी ज़िम्मेदारी थी ना।



ना रखो नाराजगी दिल में,
दिल को साफ कर दो,
जिस के बिना लगे खुद को अधुरा,
बेहतर है उन्हें माफ कर दो।



गलती की है तो माफ़ कर,
मगर यूँ ना नजरअंदाज कर।
Sorry



गलती तो हो गयी है,
अब क्या मार डालोगे,
माफ़ भी कर दो ऐ सनम,
ये गलफहमी कब तक पालोगे।
Sorry



गुस्ताखी मेरी ज़रा माफ़ करना,
मेरे बदलने की आस में,
अपनी ज़िन्दगी मत बरबाद करना।



टूटे दिल के साथ साथ खुद भी चूर चूर थे हम,
हुस्न का वही बहाना, “Sorry Babu” मजबूर थे हम,,!!



इश्क की नगरी में माफ़ी नहीं किसी को भी,
इश्क उमर नहीं देखता बस उजाड़ देता है।



कर दो माफ़ अगर भूल हुई हमसे,
ऐसी बात न करके हमें सजा न दीजिये।
I am Sorry



मेरी गुस्ताखियों को तुम माफ़ करना,
दिल तुम्हे तुम्हारी इजाजत
के बिना भी याद करता है।



माना हो गई गलती,पर अब माफ़ भी कर दो यार,
देख भी लो पलटकर मुझे,
तेरे कदमों में झुका है तेरा प्यार।
Sorry Jaan



कान पकड़कर मांग रहा हूँ तुझसे माफ़ी मेरी जान,
सब कुछ भूलकर मान भी जाओ मेरी जान।
I am Sorry Jaan



हो गई हो भूल तो दिल से माफ कर देना,
सुना है सोने के बाद हर किसी की सुबह नही होती।



जा रहा है यह साल भी यादों का नजराना दे कर,
अगर हो गयी हो हम से कोई खता तो माफ़ करना।



माफ़ कर दो उनको जिनको तुम भूल नहीं सकते,
भूल जाओ उनको जिनको तुम माफ़ नहीं कर सकते।



कर दो माफ़ अगर हुई कोई खता हमसे,
अलग तुमसे होकर और अब रहा नहीं जाता हमसे।
Sorry



छल में बेशक बहुत बल है,
लेकिन माफ़ी आज भी अंतिम हल है।



एक बार माफ करके अच्छे बन जाओ,
लेकिन दुबारा उसी इन्सान पर भरोसा
कर के बेवकूफ मत बनो।



राख होकर एक दिन हो जायेंगे खाख,
इसलिए दिल में प्रेम भरकर,
कर दो लोगों को माफ।



मैं ले सकता था बदला मगर
मैंने माफ़ कर दिया,
अब मेरी यही बात उसको
ज़िन्दगी भर सतायेगी।



हो सकें तो नफरतों में याद कर लेना हमें,
क्योंकि दुआओं के तेरी हम काबिल न हो सकें।
Sorry



जिसके दिल नहीं होते है साफ़,
वो ही छोटी सी छोटी भूल पर भी,
नही कर पाते है किसी को भी माफ़।



जुबां से तो माफ कर दिया मैंने,
दिल से माफ करने में शायद जमाना लगे।



यूँ जलील करके ना लो उसका इम्तहान मोहब्बत में,
जिस दिन तुम्हें होगी,
खुद को माफ ना कर पाओगी।



बदला तो दुश्मन लेते हैं,
हम तो दिल से माफ करके
दिल से ही निकाल देते हैं।



चलो मै माफ करता हूँ तुम्हे,
लेकिन पहले मेरे टूटे सपनो को
और गुजरे वक्त को वापस करो मुझे।



बस यही सोच कर मैंने उसे माफ कर दिया,
एक अधूरा काम है, ये भी पूरा करता चलूं।



अगर मेरे दिल को सुकून मिल गया,
तो समझना मैंने तुम्हें माफ कर दिया।



आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है !!



खफा होने से पहले खता बता देना,
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना,
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को,
तो पहले बिना सांस लिए जीना सिखा देना !!



हो गई हो भूल तो दिल से माफ कर देना,
सुना है सोने के बाद हर किसी की सुबह नही होती !!



भूल से भूल को भुला दो जरा,
आशिक आपके है गले से लगा लो जरा,
फिर ना करेंगे नराज़ आपको,
अब तो थोडा मुस्कुरा दो जरा, सॉरी बेबी !!



हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता तो जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।



न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता !!



अब किसी को क्या बताये की
कितने मजबूर है हम
चाहा था सिर्फ एक तुमको और
अब तुमसे ही कोसो दूर है हम !!



नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते !!



आज एक वादा करते हैं तुमसे,
मेरे लिए अब कोई नहीं ज्यादा है तुमसे,
माफ़ कर दो जो रुसवा किया तुमको,
गलती हमारी थी जो खुद से जुदा किया तुमको !!



ऐ मेरे दोस्त मुझे माफ़ कर दे,
गिले-शिकवे मिटाकर, दिल अपना साफ़ कर दे



जिंदगी रुक सी गयी है तेरे जाने से
हुई हमसे जो भी गलती
अब माफ भी कर दे किसी बहाने से !!



गलतियां सारे हमारे, छाँट लिया करो,
रूठने से अच्छा, हमे डांट लिया करो !!



माना गलती हुई है हमसे
पर ऐसे खामोश ना हो जाइये.
जो दोगे सजा होगी रजा हमे
बस एक बार तो मुश्कुरा जाइये !!



हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये !!



तुम नफरतों के धरने कयामत तक जारी रखो ऐ सनम,
हम मोहब्बत से इस्तीफा मरते दम तक नहीं देंगे।



सॉरी कहने का मतलब है,
कि आपके लिए दिल में प्यार है,
अब जल्दी से हमे माफ़ कर दो ऐ सनम,
सुना है आप बहुत समझदार हैं !!



प्रेम सदा माफ़ी माँगना पसंद करता है,
अहंकार सदा माफ़ी सुनना पसंद करता है !!



ना रखो नाराजगी दिल में, दिल को साफ कर दो.
जिस के बिना लगे खुद को अधुरा, बेहतर है उन्हें माफ कर दो !!



सॉरी कहते-कहते दिन से रात हो गई,
आइना देखते-देखते,
आपसे हजारों बात हो गई,
प्लीज मुझे माफ कर दो !!



जुबाँ पे न जाने उनके क्यों पहरे थे,
लगता है मेरे सवाल काफी गहरे थे !!



एक जरा सी भूल मेरी खता बन गयी.
मेरी वफ़ा ही मेरी सजा बन गयी !!



गलती तो हो गयी अब क्या मार ही डालोगे.
माफ़ भी कर दो ऐ सनम
ये गलतफेहमी कब तक पालोगे !!



हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें,
आपसे रूठ जाने के लिये !!



देखा है आज मुझे भी गुस्से की नज़र से,
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े है !!



माफ़ कर देना मुझे,
मैंने दिल तुम्हारा दुख दिया जाने अनजाने में मैंने,
तुम्हे बेवजह रुला दिया



रूठे हो जानती हूं मैं,
खफा हो मानती हूं मैं,
गलती हुई है अब माफ कर दो,
तुम्हारे सितम से कहीं मर न जाऊं मैं !!



भूल से कोई भूल हो गई तो,
भूल समझ कर भूल जाना,
अरे भूलना सिर्फ़ भूल को
भूल से हमें ना भूल जाना !!



साँसों की मोहलत कब ख़त्म हो जाये मालूम नहीं,
दर्द कोई मिला हो हमारी तरफ से तो माफ़ कर देना !!



नाराज़गी हमसे हैं और
तकलीफ़ ख़ुद को देना ग़लत बात हैं !!



तुम्हें पसंद थी ना शायरियाँ मेरी,
सुनो अब लौट आओ… कुछ लिखा है तुम्हारे लिये।



खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो !!



पलभर में टूट जाये वो कसम नहीं,
तुम्हे भूल जाये वो हम नहीं,
तुम रूठी रहो हमसे इस बात में दम नहीं !!



बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से,
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से !!



कहा सुना जो भी हो माफ़ करना,
कुछ वादे किये ना निभाए हों तो माफ़ करना,
कुछ बातें जो हम दोनों के बिच हुई,
उन में कुछ भला बुरा हुवा हो तो माफ़ करना !!



तुम दुआ हो मेरी सदा के लिए,
मैं जिंदा हूँ तुम्हारी दुआ के लिए,
कर लेना लाख शिकवे हमसे,
मगर कभी खफा न होना खुदा के लिए !!



पलभर में टूट जाये वो कसम नहीं,
तुम्हे भूल जाये वो हम नहीं,
तुम रूठी रहो इस बात में दम नहीं,
तुम मनाने से न मनो इतने बुरे हम भी नहीं !!



तुझे चाहते है हम रब से भी ज्यादातू रूठे हमसे जो,
अब हमसे होगा नगवार रब के बाद सिर्फ तू ही है
हम जीते है जिसे देख कर बस तू ही है एक सहारा !!



खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो !!



न चलता है दिल पर जोर कोई,
यह खुद की ही मर्जी चलाता है,
करता है खटाएं कैसी कैसी,
और बदले में हमें रुलाता है !!



कहीं नाराज न हो जाए प्यार मुझसे,
हर सुबह उठते ही “खुदा” से पहले तुझे जो याद करता हूँ !!



माना भूल हो गयी हमसे,
पर इस तरह रूठो न मेरे सनम,
एक बार नज़रे उठा के देखो हमे,
हम दोबारा ना करेगें ये खता है कसम !!



मेरा चेहरा मेरे पति की वजह से खिला हुआ रहता है,
मेरे प्यारे पति अब तो मान जाओ,
और मेरे मुरझाए चेहरे पर हंसी ले आओ !!



इश्क़ ने हमें रोने भी नहीं दिया,
गम ने हमें हसने भी नहीं दिया,
रूठ के जब याद आई तुम्हारी तो,
नींद ने हमें सोने भी न दिया !!



आज मैंने खुद से एक वादा किया है
माफ़ी मंगुगा तुझसे तुझे रुसवा किया है
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है !!



हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया !!



कहा सुना जो भी हो माफ़ करना
कुछ वादे किये ना निभाए हों तो माफ़ करना
कुछ बातें जो हम दोनों के बिच हुई
उन में कुछ भला बुरा हुवा हो तो माफ़ करना !!



खफा होने से पहले खता बता देना
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को
तो पहले बिना सांस लिए जीना सिखा देना !!



निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी,
आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी,
माना कि रूठ जाना यूँ आदत है आपकी,
लगते मगर हैं अच्छे ये तेवर कभी कभी !!



कब तक रह पाओगे आखिर यूँ दूर हमसे,
मिलना पड़ेगा कभी न कभी जरुर हमसे,
नजरें चुराने वाले ये बेरुखी है कैसी,
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हमसे !!



तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी;
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी !!



हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये।



धड़कन बनके जो दिल में समा गए हैं,
हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,
आंसू निकल आये जब वो याद आ गए,
जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते हैं !!



दर्द कया होता है बतायेंगे एक रोज़
प्यार की गजल सुनायेंगे किसी रोज़
थी उनकी जिद की में जाऊ उनको मानाने
मुजको ये वेहम था वो बुलायेंगे किसी रोज़ !!



दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया !!



वो मुझे चाहती है पर अपना नहीं सकती,
मुझे भुलाने का दर्द उठा नहीं सकती,
अजीब है उसके प्यार का ये अंदाज़ज,



बहुत ही उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लौट के आजा कोई बहाने से,
भले तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से.



धड़कन बनके जो दिल में समा जाते है,
हर एक पल जिनकी याद में बिताते है,
आंसू तक निकलते है जब वो याद आते है,
जान चाली जाती है जब वो हमसे रूठ जाते है.



भूल से भूल हुई भूला दो ज़रा,
आशिक़ अपके है गले से लगा लो ज़रा,
फिर न करेगे नाराज़ आपको
अब तो थोड़ा मुस्कुरा दो ज़रा.



तेरी यारी हम इस तरह निभाएंगे,
तुम रोज़ रूत जाना हम रोज़ मनायेंगे,
पर मान जाना हमारे मानाने से,
वरना हमारी भीगी आँखें लेके हम कहा जायेंगे?



उसकी खुशियों के लिए लड़ें थे दुनियाँ से,
आज वो ही हमसे खफ़ा बैठे हैं,
क्या गुनाह हो गया हैं हमसे,
हम सर झुकाए सजा पाने बैठे हैं।



तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी,
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी।



इस कदर हमसे रूठ ना जाइए,
माना गलती हुई हैं हमसे,
पर ऐसे खामोश ना हो जाइए,
जो दोगे सजा होगी क़ुबूल हमें,
बस एक बार मुस्कुरा जाइए।



यू न रहो तुम हमसे ख़फ़ा,
माफ़ कर दो हमको ज़रा,
गलती किए है मानते है हम,
उस गलती की न दो ऐसी सज़ा।



आज एक वादा करते हैं तुमसे,
मेरे लिए अब कोई नहीं ज्यादा है तुमसे,
माफ़ कर दो जो रुसवा किया तुमको,
गलती हमारी थी जो खुद से जुदा किया तुमको।



दर्द गैरों को सुनाने की जरूरत क्या है,
अपने साथ औरों को रुलाने की जरूरत क्या है,
वक्त यूँ ही कम है मोहब्बत के लिए,
रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।



गुस्सा ना हो तुम हमे मनाना नही आता,
दूर मत जाओ मुझे बुलाना नहीं आता,
आप भूल जाए तो कोई बात नहीं,
हम क्या करें हमें तो भुलाना भी नही आता।



ना रखो नाराजगी दिल में,
दिल को साफ कर दो,
जिस के बिना लगे खुद को अधुरा,
बेहतर है उन्हें माफ कर दो।



नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते।



शब्दों का जाल कुछ गलत बुन लिया,
पर मेरे दिल में वैसी बात ना थी,
शर्मिंदा हूँ खुद अपने अल्फाजों के लिए,
क्यूंकि खुद से ऐसी उम्मीद ना थी।



जिंदगी रहे ना रहे दोस्ती ज़रूर रहेगी,
पास रहे ना रहे यादें ज़रूर रहेगी,
अपनी जिंदगी में हमेशा हंसते रहना,
क्योकि आपकी हँसी में एक मुस्कान मेरी रहेगी,
सॉरी हर्ट करने के लिए।



खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।



दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिए बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।



हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाए तो माफ़ करना।



हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया।



सॉरी बोल दिए वहाँ भी जहाँ हम गलत न थे क्योंकि,
मुझे रिश्ते निभाने की ललक थी
और उसे मुझे गलत साबित करने की।



पल भर में टूट जाए वो कसम नहीं,
तुम्हे भूल जाए वो हम नहीं,
तुम रूठी रहो हम से इस बात में दम नहीं,
सॉरी बोलने से तुम न मानो इतना प्यार कम नहीं।



भूल जाओ कि किसी से कोई भूल नहीं होगी,
पर भूल होने पर सॉरी कहना मत भूलो,
वरना छोटी सी भूल भी महँगी होगी।



दोस्ती में दूरियां तो आती रहती हैं,
पर फिर भी दोस्ती दिलों को मिला देती है,
वो दोस्त ही क्या जो नाराज़ न हो,
पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है।



किसी के दिल को चोट पहुंचा कर,
माफ़ी मांगना बहुत ही आसान है,
पर खुद चोट खाकर किसी को,
माफ़ करना बहुत ही मुश्किल है।



तुझे चाहते है हम रब से भी ज्यादा तू रूठे हमसे जो,
अब हमसे होगा ना गुजारा रब के बाद सिर्फ तू ही है,
हम जीते है जिसे देख कर बस तू ही है एक सहारा।



किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं,
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं,
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या,
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं।



गलती हुई है तो फिर फरमान सुना दो,
आखों में इतना दर्द क्यों है कुछ तो बता दो,
कुछ देर हो गई महसूस करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।



कर देना माफ़ मुझे अगर दिल तोडा हो आपका,
जिंदगी का क्या भरोसा, आज है तो कल नहीं।



यूँ ना आप हमे नज़र अंदाज़ करे,
हमसे हुई है गलती माफ़ करे,
दिल में भरा गुस्सा छोड़ कर
अब अपना दिल साफ़ करे।



खफा होने से पहले खता बता देना,
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना,
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को,
तो पहले बिना साँस लिए जीना सिखा देना।



दुसरो को इतनी जल्दी माफ़ कर दिया करो,
जितनी जल्दी आप उपरवाले से अपने लिए,
माफ़ी की उम्मीद रखते हो।



हमसे कोई भूल हो जाए तो Sorry,
आपको याद न कर पाए तो Sorry,
वैसे दिल से आपको भुलेगे नहीं,
पर हमारी धड़कन ही रुक जाए तो Sorry.



हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना।।



आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मंगुगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है।



हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये.



मुझे सिर्फ एक चीज की तलाश है,
माफी की जिसकी वजह से वो रोती
रहीं मुझसे दिल लगाने के बाद।



किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नहीं,
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नहीं,
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या,
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं.



दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया.



कभी पागल तो कभी दीवाना कहती हो,
कभी दोस्त तो कभी दोस्ताना कहती हो,
कैसे माफ़ कर दूँ तुम्हें, पहले जानबूझकर
ग़लती करती हो फिर सॉरी कहती हो.



हमारी गलती को माफ़ कर देना
अनजाने में भी हमें छोड़ मत देना
नहीं तो हम रह नहीं पायेंगे आपके बिन
आप हमारे बिन ही रह लेना.



गलती हुई हमसे मान हमने लिया
गलत हम थे जान हमने लिया अब ना
करेंगे कुछ ऐसा जो बुरा लगे आपको
अब ये दिल में ठान हमने लिया.



बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से.



वो गुस्से में दूर से ही निहारा करते है,
क्या बात है जाने क्यों इतने खफा लगते हैं
हो गयी हो अगर कोई गलती हमसे,
माफ़ कर दो ना अपनी वफ़ा समझ के.



दिल उदास है तेरे चले जाने से,
हो सके तो मुसाफिर लौट आ,
तेरे कदमो में सर झुकायें खड़े है हम,
तू बस एक बार सजा तो सुना जा.



हर रात मेरा नाम बोल कर सोया करो,
खिड़की खोल तकिया मोड़ के सोया करो,
हम भी आएंगे तुम्हारे ख्यालों में,
इसलिये थोड़ी सी जगह छोड़ के सोया करो।



VIDEO CREADIT :- Sero Shayri



HELLO DOSTO HAM AAPKE LIYE LEKE AAYE HAIN Sorry Shayari In Hindi. TO AAP IS SHAYARI KO JARUR PADHE AUR HAME COMMENT KARKE JARUR BATAYE KI AAPKO HAMARI YE SHAYARI KESI LAGI TO HAM AAPKE LIYE ESI AUR SHAYARIYA LEKE AAYENGE. AUR AAP HAME SOCIAL MEDIA PE BHI FOLLOW KAR SAKTE HAIN. FACEBOOK , LINKED , INSTAGRAM , PINTREST , TWITTER .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *