Zindagi Shayari In Hindi

Zindagi Shayari In Hindi

Zindagi Shayari In Hindi – Zindagi Ki Shayari In Hindi (2021)



Zindagi Shayari In Hindi -जिंदगी शायरी इन हिंदी, Zindagi Ki Sachai Shayari In Hindi, Zindagi Ki Shayari In Hindi, Sad Zindagi Shayari In Hindi, Zindagi Khushi Shayari In Hindi, Zindagi Sad Shayari In Hindi, 2 Line Zindagi Shayari In Hindi, Zindagi Qulzar Shayari In Hindi, Zindagi Urdu Shayari In Hindi, Zindagi Ki Kahani Shayari In Hindi, 4 दिन की जिंदगी शायरी, जी लो जिंदगी शायरी, Zindagi Shayari In English, Zindagi Shayari 2 Lines, रियल लाइफ शायरी इन हिंदी, जिंदगी शायरी दो लाइन sad, उदास जिंदगी शायरी, जिंदगी शायरी 2 लाइन, Hasrate Zindagi Shayari In Hindi, Mast Zindagi Shayari, Zindagi Shayari In Urdu, Zindagi Shayari Gulzar, Aye Zindagi Shayari, Zindagi Shayari Rekhta, Akeli Zindagi Shayari



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



हर बात मानी है तेरी सिर झुका कर ऐ ज़िंदगी,
हिसाब बराबर कर तू भी तो कुछ शर्तें मान मेरी।



Har baat mani hain teri sir juka kar e jindagi,
Hisab barabar kar tu bhi to kuch sharte maan meri.



अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िंदगी का तजुर्बा थोड़ा थोड़ा।



Ab samaj leta hu mithe lafji ki kadvahat,
Ho gaya hain jindagi ka tajurba thoda thoda.



कितना और बदलूं खुद को ज़िंदगी जीने के लिए,
ऐ ज़िंदगी, मुझको थोड़ा सा मुझमें बाकी रहने दे।



Kitna aur badlu khud ko jindagi jine ke liye,
E jindagi mujko thoda sa mujme baki rahne de.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



नफरत सी होने लगी है इस सफ़र से अब,
ज़िंदगी कहीं तो पहुँचा दे खत्म होने से पहले



Nafrat se honi lagi hain is safar se ab,
Jindagi kahi to pahucha de khatm hone se pahle.



ज़िन्दगी लोग जिसे मरहम-ए-ग़म जानते हैं,
जिस तरह हम ने गुज़ारी है वो हम जानते हैं।



Jindagi log jise marham-e-gam jante hain,
Jis tarah ham ne gujari hain vo ham jante hain.



मुझे ज़िंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं है दोस्तों,
पर लोग कहते हैं यहाँ सादगी से कटती नहीं।



Muje jindagi ka itna tajurba nahi hain dosto,
Par log kahte hain yaha sadgi se katati nahi.



मंजिलें मुझे छोड़ गयी रास्तों ने संभाल लिया,
जिंदगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया।



Manjile muje chod gayi rasto ne muje shambhal liya,
Jindagi teri jarurat nahi muje hadso ne pal liya.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



कुछ ऐसे हादसे भी होते हैं ज़िंदगी में ऐ दोस्त,
इंसान बच तो जाता है मगर ज़िंदा नहीं रहता।



Kuch ese hadse bhi hote hain jindagi me e dost,
Insan bach to jata hain magar jinda nahi rahta.



जब भी सुलझाना चाहा ज़िंदगी के सवालों को मैंने,
हर एक सवाल में जिंदगी मेरी उलझती चली गई।



Jab bhi suljana chaha jindagi ke savalo ko maine,
Har ek saval me jindagi meri uljati chali gayi.



ऐ ज़िंदगी, तोड़ कर हमको ऐसे बिखेरो इस बार,
न फिर से टूट पायें हम, और न फिर से जुड़ पाए तू।



E jindagi, tod kar hamko ese bhikheri is baar,
Na fir se tut paye ham, aur na fir se jud paye tu.



हर एक चेहरे को ज़ख़्मों का आईना न कहो,
ये ज़िंदगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो।



Har ek chehre ko jakhmo ka aaina na kaho,
Ye jindagi to hain rahmat ese saja na kaho.



ज्यादा ख़्वाहिशें नहीं ऐ ज़िंदगी तुझसे,
बस अगला कदम पिछले से बेहतरीन हो।



Jyada khwahise nahi e jindagi tujase,
Ba agla kadam pichle se behtrin ho.



छोड़ ये बात कि मिले ज़ख़्म कहाँ से मुझको,
ज़िंदगी इतना बता कितना सफर बाकी है।



Chod ye baat ki mile jakhm kaha se mujko,
Jindagi itna bata kitna safar baki hain.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अब तो अजीब से।



Dekha hain jindagi ko kuch itna karib se,
Chehre tamam lagne lage hain ab to ajib se.



सबक वो हमको पढ़ाए हैं ज़िंदगी ने कि हम,
हुआ था जो इल्म किताबों से वो भी भूल गए।



Sabak vo hamko padhaye hain jindagi ne ki ham,
Hua tha jo ilam kitabo se vo bhi bhul gaye.



कभी खोले तो कभी ज़ुल्फ़ को बिखराए है,
ज़िंदगी शाम है और शाम ढली जाए है।



Kabhi khole to kabhi julf ko bikhraye hain,
Jindagi sham hain aur sham dhali jaye hain.



पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं,
तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं।



Pahle se un kadmo ki aahat jan lete hain,
Tuje e jindagi ham dur se pahchan lete hain.



है अजीब शहर की ज़िंदगी
न सफर रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर
कहीं बदमिजाज़ सी शाम है।



Hain ajib shahar ki jindagi,
Na safar raha na kayam hain,
Kahi kaarobar si dopahar,
Kahi badmijaj si sham hain.



RELATED POST :-  Baat Nahi Karne Ki Shayari
I Hate You Shayari
Manane Wali Shayari
Single Shayari
Friendship Shayari In English
Love Wali Shayari
Bewafa Dard Bhari Shayari
Gajab Attitude Shayari In Hindi
Funny Shayari In English
Ghalib Shayari



यहाँ सब कुछ बिकता है दोस्तों
रहना जरा संभाल के,
बेचने वाले हवा भी बेच देते है
गुब्बारों में डाल के।



Yaha sab kuch bikta hain dosto,
Rahna jara sambhal ke,
Bechne vale hava bhi bhech dete hain,
Gubbaro me dal ke.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



खुशी में भी आँखें आँसू बहाती रही,
जरा सी बात देर तक रुलाती रही,
कोई खो के मिल गया तो कोई मिल के खो गया,
ज़िंदगी हम को बस ऐसे ही आज़माती रही।



Khushi me bhi aankhe aansu bahati hain,
Jara si baat der tak rulati rahi,
Koi kho ke mil gaya to koi mil ke kho gaya,
Jindagi ham ko bas ese hi aajmati rahi.



कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुयी यादों का सिलसिला होगा,
जो लम्हे हैं चलो हँसकर बिता दें,
जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा।



Kal na ham honge na koi dila hoga,
Sirf simti hue yado ka silsila hoga,
Jo lanhe hain chalo haskar nita de,
Jane kal jindagi ka kya faisla hoga.



समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए,
तेरे शहर में ज़िंदगी कहीं तो होनी चाहिए।



Samndar na sahi par ek nadi to honi chahiye,
Tere shahar me jindagi kahi to honi chahiye.



इक टूटी-सी ज़िंदगी को समेटने की चाहत थी,
न खबर थी उन टुकड़ों को ही बिखेर बैठेंगे हम।



Ek tuti si jindagi ko sametan ki chahat thi,
Na khabar thi un tukdo ko hi bikher baithege ham.



फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,
जैसे ये ज़िंदगी, ज़िंदगी नहीं, कोई इल्जाम है।



Fikra hain sabko khud ko sahi sabit karne ki,
Jaise ye jindagi jindagi nahi koi iljam hain.



ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है,
क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नजर से हम।



Le de ke apne paas fakt ek najar to hain,
Kyu dekhe jindagi ko kisi ki najar se ham.



ये कशमकश है कैसे बसर ज़िंदगी करें,
पैरों को काट फेंके या चादर बड़ी करें।



Ye kashamkash hain kese basar jindagi kare,
Pairo ko kat feke ya chadar badi kare.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िंदगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी।



Kuch is tarah fakir ne jindagi ki misal di,
Mutti medhul li aur hava me uchal di.



ज़िंदगी जिसका बड़ा नाम सुना है हमने,
एक कमजोर सी हिचकी के सिवा कुछ भी नहीं।



Jindagi jinka bada name suna hain hamne,
Ek kamjor si hichki ke siva kuch nahi.



एक उम्र गुस्ताखियों के लिये भी नसीब हो,
ये ज़िंदगी तो बस अदब में ही गुजर गई।



Ek umar mustakhiyo ke liye bhi nashib ho,
Ye jindagi to bas adab me hi gujar gai.



जो तेरी चाह में गुजरी वही ज़िंदगी थी बस,
उसके बाद तो बस ज़िंदगी ने गुजारा है मुझे।



Jo teri chah me gujari vahi jindagi thi bas,
Usake baad to bas jindagi ne gujara hain muje.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



अकेले ही गुजर जाती है तन्हा ज़िंदगी,
लोग तसल्लियाँ तो देते हैं साथ नहीं देते।



Akele hi gujar jati hain tanha jindagi,
Log taslliya to dete hain sath nahi dete.



पहचानूं कैसे तुझ को मेरी ज़िंदगी बता,
गुजरी है तू करीब से लेकिन नकाब में।



Pahchanu kaise tuj ko meri jindagi bata,
Gujari hain tu karib se lekin nakab me.



नजरिया बदल के देख, हर तरफ नजराने मिलेंगे,
ऐ ज़िंदगी यहाँ तेरी तकलीफों के भी दीवाने मिलेंगे।



Najariya badal ke dekh, har taraf najarane milegi,
E jindagi yaha teri taklifo ke bhi divane milegi.



हासिल-ए-ज़िंदगी हसरतों के सिवा और कुछ भी नहीं,
ये किया नहीं, वो हुआ नहीं, ये मिला नहीं, वो रहा नहीं।



Hasil-e-jindagi hasrato ke sita aur kuch bhi nahi,
Ye kiya nahi, vo hua nahi, ye mila nahi, vo raha nahi.



धूप में निकलो घटाओं में नहाकर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटाकर देखो।



Dhup me niklo ghatao me nahakar dekho,
Jindagi kya hain kitabo ko hatakar dekho.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



न कर शुमार कि हर शय गिनी नहीं जाती,
ये ज़िंदगी है हिसाबों से जी नहीं जाती।



Na kar shumar ki har shay gini nahi jati,
Ye jindagi hain hisabo se ji nahi jati.



थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँ,
ये क्या कम है मैं अपनी पहचान बचा पाया हूँ,
कुछ उम्मीदें, कुछ सपने, कुछ महकती यादें,
जीने का मैं इतना ही सामान बचा पाया हूँ।



Thodi masti thoda sa iman bacha paya hu,
Ye kya kam hain main apni pahchan bacha paya hu,
Kuch ummide kuch sapne kuch mahakti yaade,
Jine ka me itna hi saman bacha paya hu.



ZINDAGI SHAYARI IN HINDI



ज़िन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है,
ज़ुल्फ़-ओ-रुखसार की जन्नत नहीं कुछ और भी है,
भूख और प्यास की मारी हुई इस दुनिया में,
इश्क ही इक हकीकत नहीं कुछ और भी है।



Jindagi sirf mahobbat nahi kuch aur bhi hain,
Julf-o-rukhsar ki jannat nahi kuch aur bhi hain,
Bhukh aur pyas ki mari hue is duniya main,
Ishq hi ek hakikat nahi kuch aur bhi hain.



सच बिकता है झूठ बिकता है
बिकती है हर कहानी,
तीनों लोक में फैला है फिर भी
बिकता है बोतल में पानी।



Sach bikta hain,
Juth bikta hain,
Tino lok me fela hain fir bhi,
Bikta hain pani bottle me.



दौड़ती भागती जिंदगी का
यही तोहफ़ा है,
खूब लुटाते रहे अपनापन
फिर भी लोग खफा हैं।



Dosti bhagati jindagi ka yahi taufa hain,
Khub lutate rahe apnapan,
Fir bhi log khafa hain.



वो ज़िंदगी जिसे समझा था कहकहा सबने,
हमारे पास खड़ी थी तो रो रही थी अभी।



Vo jindagi jise samja tha kahkaha sabne,
Hamare paas khadi thi to ro rahi thi abhi.



ज़िंदगी तू कोई दरिया है कि सागर है कोई,
मुझको मालूम तो हो कौन से पानी में हूँ मैं।



Jindagi tu koi dariya hain ki sagar hain koi,
Mujko malum to ho kaun sa pani me hu me.



ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है,
बस एक आपकी वफ़ा चाहती है,
कितनी मासूम और नादान है ये,
खुद बेवफा है और वफ़ा चाहती है।



Jindagi se puchiye ye kya chahti hain,
Bas ek aapki vafa nadan haiin ye,
Kitani masoom aur nadan hain ye,
Khud bewfa hain aur vafa chahte hain.



कुछ बातों के मतलब हैं
और कुछ मतलब की बातें
जब से फर्क समझा
जिंदगी आसान हो गई



Kuch bato ke matlab hain,
Aur kuch matlab ki bate,
Jab se fark samja,
Jindagi aasan ho gai.



जलाये जो चिराग,
तो अँधेरे बुरा मान बैठे..
छोटी सी ज़िन्दगी है साहेब,
किस-किस को मनाएंगे हम



Jalaye jo chirag,
To andhere bura man baithe,
Choti si jindagi hain sahab,
Kis-kis ko manayenge ham.



थमती नहीं ज़िन्दगी कभी,
किसी के बिना,
लेकिन ये गुज़रती भी नहीं,
अपनों के बिना.



Thamti nahi jindagi kabhi,
Kisi ke bina,
Lekin ye gujarati bhi nahi,
Apno ke bina.



ज़रूरते भी ज़रूरी हैं,
जीने के लिए ..
लेकिन तुझसे ज़रूरी तो,
ज़िन्दगी भी नहीं !



Jarurate bhi jaruri hain,
Jine ke liye..
Lekin tujase jaruri to,
Jindagi bhi nahi.



सिर्फ सांसे चलते रहने को ही ज़िन्दगी नही कहते
आँखों में कुछ ख़वाब और
दिल में उम्मीदे होना जरूरी है !



Sirf aankhe chalte rahne ko hi jindagi nahi kahte,
Aankho me kuch khwab aur
Dil me ummide hona jaruri hain.



छोड़ देंगे तेरी दुनिया को एक रोज़ ए खुदा,
ज़ख़्म दे दे कर किराये की ज़िन्दगी का एहसास ना दिला !



Chod denge teri duniya ko ek roj e khuda,
Jakhm de de kar kiraye ki jindagi ka ehsas na dila.



जहां के सारे दर्द,
मुझे ही दे दिए…
कि खुदा को,
इतना यकीन था मुझपर !



Jahan ke sare dard,
Muje hi de diye,
Ki khuda ko,
Itna yakin tha mujpar.



रास्तों को कदम चाहिए,
कदमों को होंसला चाहिए..
होंसले को ज़िन्दगी चाहिए और
ज़िन्दगी को तेरा फैसला !



Rasto ko kadam chahiye,
Kadmo ko hosla chahiye,
Hosle ko jindagi chahiye aur,
Jindagi ko tera faisla.



यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है,
जिसमें न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है !



Yah jindagi bas sirf pal do pal hain,
Jisame na to aaj aur na hi kal hain,
Ji lo is jindagi ka har pal is tarah,
Jaise bas yahi jindagi ka sabse hasi pal hain.



ज़िन्दगी को कभी तो,
खुला छोड़ दो जीने के लिए..
क्योंकि बहुत संभाली चीज़,
वक़्त पर नहीं मिलती !



Jindagi ko kabhi to,
Khula chod do jine ke liye,
Kyoki bahut sambhali cheez,
Vakt par nahi milti.



ये उम्र और ज़िन्दगी बिना रुके बढ़ते ही जा रहे हैं,
और हम आज भी अपनी ख्वाहिशें लेकर वहीं खड़े हैं !



Ye umra aur jindagi bina ruke badhte hi ja rahe hain,
Aur ham aaj bhi apni khwahise lekar vahi khade hain.



ज़िन्दगी में हर इंसान को,
मुक़म्मल चैन-ओ-आराम नहीं मिलता
मिल जाये जिस रोज़ आराम,
ज़िन्दगी का तब नाम नहीं मिलता !



Jindagi me har insan ko,
Mukammal chain-or-aaram nahi milta,
Mil jaye jis roj aaram,
Jindagi ka tab naam nahi milta.



आँखों को अश्क का पता न चलता,
दिल को दर्द का एहसास न होता,
कितना हसीन होता जिंदगी का सफ़र,
अगर मिलकर कभी बिछड़ना न होता !



Aankho ka ashq ka pata naa chalna,
Dil ko dard ka ehsas na hota,
Kitna haseen hota jindagi ka safar,
Agar milkar kabhi bichdna na hota.



आओ मिलकर आग लगा दें इस महोब्बत को,
ताकि फिर ना तबाह हो किसी मासूम की ज़िन्दगी !



Aao milkar aag laga de is mahobbat ko,
Taki fir na tabah ho kisi masoom ki jindagi.



ये ना पूछो,
कि ये ज़िन्दगी ख़ुशी कब देती है?
क्योंकि ये शिकायत उसे भी है,
जिसे ये ज़िन्दगी सब देती है !



Ye na pucho,
Ki ye jindagi khushi kab deti hain,
Kyoki ye shikayat use bhi hain,
Jise ye jindagi sab deti hain.



थोड़ा सा रफू करके देखिये ना,
फिर से नयी सी लगेगी ज़िन्दगी ही तो है !



Thoda sa rafu karke dekhiye na,
Fir se nayi hi lagegi jindagi hi to hain.



कुछ ऐसे सिलसिले भी चले ज़िंदगी के साथ
कड़ियां मिलीं जो उनकी तो ज़ंजीर बन गए !



Kuch ese silsile bhi chale jindagi ke sath,
Kadiya mili jo unki to janjir ban gaye.



फुर्सत में करेंगे तुझसे हिसाब, ए ज़िन्दगी
अभी तो उलझे हैं खुद को सुलझाने में !



Fursat me karenge hisab E JINDAGI,
Abhi to ulje hain khud ko suljane main.



बहुत पहले से ही हम उन क़दमों की
आहट को जान लेते हैं,
तुम्हे तो ऐ ज़िन्दगी,
हम दूर से ही पहचान लेते हैं !



Bahut pahle se hi ham un kadmo ki
Aahat ko jaan lete hain,
Tumhe to e jindagi,
Ham dur se hi pahchan lete hain.



थोड़ा सा छुप-छुप कर
खुद के लिए भी जी लिया करो,
कोई नहीं कहेगा की
थक गए हो आराम करो !



Thoda sa chup-chup kar,
Khud ke liye bhi jiya karo,
Koi nahi kahega ki,
Thak gaye ho aaram karo.



जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना
ये कमबख्त ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नहीं है !



Jo lamha sath hain use bhar ke ji lena,
Ye kambakt jindagi bharose ke kabil nahi.



ढूंढा बहुत मगर कहीं महोब्बत नहीं मिली,
उमीदो की रोशनी में सिर्फ ज़िन्दगी जली !



Dhundha bahut magar kahi mahibbat nahi mili,
Ummido ki rosani me sirf jindagi jali.



जब भी देखता हूँ किसी गरीब को हँसते हुए,
तब एहसास होता है कि खुशियों का दौलत से कोई मुक़ाबला नहीं”



Jab bhi dekhta hu kisi garib ko haste hue,
Tab ehsas hota hain ki
Khushiyo ka daulat se koi mukabala nahi.



यह ज़िन्दगी है साहेब!
यहाँ पीठ पीछे छुरा मारने वाले को निर्दोष
और भरोसा करने वाले को दोषी मानते हैं !



Yah jindagi hain sahab,
Yaha pith piche chura marne vale ko nirdosh,
Aur bharosa karne vale ko doshi mante hain.



ज़िन्दगी से अपना हर दर्द छुपा लेना,
ख़ुशी ना मिले तो ग़म गले लगा लेना,
कोई अगर कहे मोहब्बत आसान होती है,
तो उसे मेरा टूटा हुआ दिल दिखा देना !



Jindagi se apna har dard chupa lena,
Khushi na mile to gam gale laga lena,
Koi agar kahe mahobbat aasan hoti hain,
To use mera tuta hua dil dekha dena.



ज़िन्दगी का कोई एहसान नहीं है मुझ पर,
मैंने जीने के लिए हर एक सांस की कीमत दी है !



Jindagi ka koi ehsan nahi hain muj par,
Maine jine ke liye har ek sans ki kimat di hain.



ए ज़िन्दगी तू इतना भी ज़ुल्म ना कर,
कौन सा मैं यहाँ बार बार आने वाला हूँ !



E jindagi tu itna bhi julm na kar,
Kaun sa main yaha bar-bar aane vala hu.



उसने इतना कह के फ़ोन काट दिया,
कि कोई आ गया है|
मुझे आजतक समझ नही आया,
घर मे या ज़िन्दगी में !



Usne itna kah ke phone kat diya,
Ki koi aa gaya hain,
Muje aajtak pata samaj nahi aaya,
Ghar me ya jindagi me.



सब कुछ हासिल नहीं होता ज़िन्दगी में यहां
किसी का काश तो किसी का अगर छूट ही जाता है !



Sab kuch hasil nahi hota jindagi me yaha,
Kisi ka kash to kisi ka agar chut hi jata hain.



सांप के दांत में.. बिच्छू के डंक में ..
और इंसान के मन में कितना ज़हर भरा है ..
यह बता पाना बहुत मुश्किल है !



Sanp ke dant me bicchu ke dankh me,
Aur insan ke man me kitna jahar bhara hain,
Yah bata pana bahut muskil hain.



एक पहचान हज़ारों मित्र बना देती है,
एक मुस्कराहट हज़ारों दुःख भुला देती है,
ज़िन्दगी के सफर में जरा संभल कर चलना लोगों,
एक ज़रा सी चूक हज़ारों ख़्वाब जला कर राख बना देती है !



Ek pahchan hajaro mitra bana deti hain,
Ek muskurahat hajaro dukh bhula deti hain,
Jindagi ke safar me jara sambhal kar chalna logo,
Ek jara si chuk hajaro khwab jala kar rakh bana deti hain.



कोई हुनर, कोई राज, कोई राह, कोई तो तरीका बताओ
दिल टूटे भी न, साथ छूटे भी न,
कोई रूठे भी न और ज़िन्दगी गुजर जाए !



Koi hunar, Koi raj, Koi rah, Koi to tarika batao,
Dil tute bhi na, Sath chute bhi na,
Koi ruthe bhi na aur jindagi gujar jaye.



ज़िदगी से तो क्या शिकायत हो
मौत ने भी भुला दिया है हमें !



Jindagi se to kya shikayat ho,
Maut ne bhi bhula diya hain hame.



कुछ बातों के मतलब हैं,
और कुछ मतलब की बातें..
जब से फर्क समझा,
जिंदगी आसान हो गई !



Kuch bato ke matalab hain,
Aur kuch mmatalab ki bate,
Jab se fark samja,
Jindagi aasan ho gai.



झूझती रही बिखरती रही टूटती रही
कुछ इस तरह ज़िन्दगी निखरती रही !



Jujati rahi bikhrati rahi tutati rahi,
Kuch is tarah jindagi nikhrati rahi.



कह दो हर वो बात जो जरुरी है कहना क्योंकि
कभी-कभी जिन्दगी भी बेवक्त पूरी हो जाती है !



Kah do har vo baat jo jaruri hain kahna kyoki,
Kabhi kabhi jindagi bhi bevakt puri ho jati hain.



जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम
मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम
सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा
बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम !



Jina chaha to jindagi se dur the ham,
Marna chaha to jine ko majbur the ham,
Sar juka kar kabool kar li har saja,
Bas kasoor itna tha ki be kasoor the ham.



जरुरी तो नहीं शायरी वही करे जो इश्क़ में हो
ज़िन्दगी भी कभी – कभी जखम बेमिसाल दिया करती है!



Jaruri nahi shayari vo kare jo ishq me ho,
Jindagi bhi kabhi kabhi jakham bemisal diya karti hain.



मदहोश रहते हैं, तभी ज़िंदा हैं..
वरना होश में कँहा ज़िन्दगी, रास आती है!



Madhosh rahte hain,
Varna hosh me kaha jindagi, ras aati hain.



ये कश्मकश है ज़िंदगी की कि कैसे बसर करें,
ख्वाहिशे दफ़न करे ,या चादर बड़ी करें!



Ye kashmkash hain jindagi ki kaise kasar kare,
Khwahise dafan kare, Ya chadar badi kare.



ज़िन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे है!



Jindagi ka falsafa bhi kitna ajib hain,
Shame katati nahi, Aur sal gujarte chale ja rahe hain.



उड़ जायेंगे तस्वीरों से, रंगो की तरह हम,
वक़्त की टहनी पर हैं, परिंदो की तरह हम!



Ud jayegi tasveero se rango ki tarah ham,
Vakt ki tahni par hain, Parindo ki tarah ham.



कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िन्दगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी!



Kis is tarah fakir ne jindagi ki mishal di,
Mutthi medhul hi aur hava me uchal di.



सच्चाई और अच्छाई की तलाश में पुरी दुनिया घूम लो,
अगर वह अपने में नहीं तो कही भी नहीं!



Sacchai aur acchai ki talash me puri duniya gum lo,
Agar vah apne me nahi to kahi bhi nahi.



कुछ ज़रूरतें पूरी तो कुछ ख्वाहिशें अधूरी,
इन्ही सवालों के जवाब हैं ज़िन्दगी!



Kuch jarurate puri to kuch khwahise adhuri,
Inhi savalo ke javab hain jindagi.



आराम से जिंदगी जीना चाहते हो तो,
अपने दिल से लालच निकाल दो!



Aaram se jindagi jinda chahte ho to,
Apne dil se lalach nikal do.



समझ जाता हूँ मीठे लफ़्ज़ों में छुपे फरेब को,
ज़िन्दगी तुझे समझने लगा हूँ आहिस्ता आहिस्ता!



Samaj jata hu mithe lafjo me chupe fareb ko,
Jindagi tuje samjane laga hu aahista aahista.



ज़िन्दगी की हक़ीक़त बस इतनी सी हैं,
की इंसान पल भर में याद बन जाता हैं!



Jindagi ki hakikat bas itani si hain,
Ki insan pal bhar me yaad ban jata hain.



फटी जेब सी ज़िन्दगी, सिक्को से दिन लो
आज फिर इक गिर कर गुम हो गया!



Fati jeb si jindagi sikko se din lo,
Aaj fir ek gir kar gum ho gaya.



ज़िन्दगी कभी आसान नही होती,
इसे आसान करना पड़ता है,
कुछ नजर अंदाज करके,
कुछ को बर्दास्त करके!



Jindagi kabhi aasan nahi hoti,
Ise aasan karn padta hain,
Kuch najar andaj karke,
Kuch ko bardast karke.



ज़िन्दगी हर हाल में एक मुकाम माँगती है,
किसी का नाम तो किसी से ईमान माँगती है
बड़ी हिफाजत से रखना पड़ता है दोस्त इसे
रूठ जाए तो मौत का सामान माँगती हैं !



Jindagi har hal me ek mukam magti hain,
Kisi ka name to kisi se iaman magti hain,
Badi hifajat se rakhna padta hain dosto ise,
Ruth jaye to maut ka samna magti hain.



मत सोच इतना ज़िन्दगी के बारे में,
जिसने ज़िन्दगी दी है उसने भी कुछ तो सोचा होगा!



Mat socho itna jindagi ke bare me,
Jisane jindagi di hain usne bhi to kuch to socha hoga.



जिस दिन किताब-ए-इश्क की तक्मील हो गई,
रख देंगे ज़िन्दगी तेरा, बस्ता उठा के हम!



Jis din kitab-e-ishq ki takmil ho gai,
Rakh denge jindagi tera, vasta utha ke ham.



कुछ दिन से ज़िन्दगी मुझे पहचानती नहीं,
यूँ देखती है जैसे मुझे जानती नहीं,
अंजुम पे हस्ता है तो हस्ता रहे जहां
मैं बेवकूफियों का बुरा मानती नहीं!



Kuch din se jindagi muje pahchanti nahi,
Yu dekhti hain jaise muje janti nahi,
Anjum pe hasta hain to hasta rahe jaha,
Main bewkufi ka bura manti nahi.



ये ज़िन्दगी जो मुझे कर्ज़दार करती रही,
कभी अकेले में मिले तो हिसाब करूँ !



Ye jindagi jo muje karjdar karti rahi,
Kabhi akele me mile to hisab karu.



ज़िन्दगी जिसको तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम ही रहे चाहने वालों की तरह !



Jindagi jisko tera pyaar mila vo jane,
Ham to nakam hi rahe chahne valo ki tarah.



क्या बेचकर हम खरीदें फुर्सत… ऐ जिंदगी,
सब कुछ तो गिरवी पड़ा है जिम्मेदारी के बाजार में !



Kya bechkar ham kharide fursat.. e jindagi,
Sab kuch to giravi pada hain jimmedari ke bajar me.



तकदीरें बदल जाती हैं,
जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो;
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है,
‘तकदीर’ को इल्ज़ाम देते देते !



Takdeere badal jati hain,
Jab jindagi ka koi maksad ho,
Varna jindagi kat hi jati hain,
Takdeer ko iljam dete dete.



ज़िन्दगी की राहों में..
ऐसा अक्सर होता है
फैसला जो मुश्किल हो
वो ही बेहतर होता है !



Jindagi ki raho me,
Esa aksar hota hain,
Faisla jo muskil ho,
Vo hi behtar hota hain.



शिकायते तो बहुत है तुझसे ऐ जिन्दगी,
पर चुप इसलिये हूँ कि, जो दिया तूने,
वो भी बहुतो को नसीब नहीं होता !



Shikayate to bahut hain tujase e jindagi,
Par chup isliye hu ki jo diya tune,
Vo bhi bahuto ko nasib nahi hota.



मौत से कैसा डर. मिनटों का खेल है,
आफत तो जिंदगी है बरसों चला करती है !



Maut se kaisa dar minto ka khel hain,
Aafat to jindagi hain barso chala karti hain.



ना जाने जिंदगी का ये कैसा दौर है,
घर खामोश है, और ऑनलाइन शोर है !



Na jane jindagi ka ye kaisa daur hain,
Ghar khamosh hain, Aur online shor hain.



ऐ मौत कितनी वफ़ा है तुझमें
मैं आज आज़माना चाहता हूँ
जि़न्‍दगी ने बहुत रूलाया है मुझे
तेरा साथ मिले तो मैं
जिंदगी को रूलाना चा‍हता हूँ !



E maut kitni vafa hain tujame,
Main aaj aajmana chahta hu,
Jindagi ne bahut rulaya hain muje,
Tera sath mile to main,
Jindagi ko rulana chahta hu.



एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी किसी की कट जाती है !



Ek sans sabke hisse se har pal ghat jati hain,
Koi ji leta hain jindagi kisi ki kat jati hain.



एक जीवन जन्म कितने झेला हुआ.
मुझ में शामिल हुआ तो यह मेला हुआ
अपने हिस्से का सब मुझको जीते गए
मैं अकेला ही था तो अकेला हुआ”



Ek jivan janm kitne jela hua,
Mujme shamil hua to yah mela hua,
Apne hisse ka sab mujko jite gaye,
Main akela hi tha to akela hua.



आपकी परछाई हमारे दिल में है,
आपकी यादें हमारी आँखों में हैं,
आपको हम भुलाएं भी कैसे,
आपकी मोहब्बत हमारी सांसो में हैं।,



Aapki parchai hamare dil me hain,
Aapki yade hamari aankho me hain,
Aapko ham bhulaye bhi kaise,
Aapki mahobbat hamari sanso me hain.



उसकी ये मासूम अदा
मुझको बेहद भाती है !
वो मुझसे नाराज़ हो तो
गुस्सा सबको दिखाती है !,



Uski ye masoom ada,
Mujko behad bhaati hain,
Vo mujse naraz ho to,
Gussa sabko dikhati hain.



कुछ लोग खोने को प्यार कहते हैं,
तो कुछ पाने को प्यार कहते हैं,
पर हकीक़त तो ये है,
हम तो बस निभाने को प्यार कहते हैँ,



Kuch log khone ko pyaar kahte hain,
To kuch pane ko pyaar kahte hain,
Par hakikat to ye hain,
Ham to bas nibhane ko pyaar kahte hain.



मैं ये नहीं कहती की
तुम्हारे लिए कोई भी दुआ ना मांगे ,
मैं तो बस यही चाहती हूँ की
कोई दुआ में तुम्हे ना मांग ले !,



Main ye nahi kahti ki,
Tumhare liye koi bhi dua nahi mange,
Main to bas yahi chahti hu ki,
Koi duaa me tumhe na mang le.



तू मुझे क्यों इतना याद आता है,
तू मुझे क्यों इतना तड़पाता है,
माना के ज़िन्दगी है सिर्फ तेरे लिए,
फिर मुझे तू क्यों इतना रुलाता है !



Tu muje kyu itna yaad aata hain,
Tu muje kyu itna tadpata hain,
Mana ki jindagi hain sirf tere liye,
Fir muje kyu itna tu rulata hain.



मेरी हर सांस में तू है
मेरी हर ख़ुशी में तू है
तेरे बिन ज़िन्दगी कुछ नहीं
क्योकि मेरी पूरी ज़िन्दगी ही तू है !



Meri har sans me tu hain,
Meri har khushi me tu hain,
Tere bin jindagi kuch nahi,
Kyoki meri puri jindagi hi tu hain.



माना कि तू नहीं है मेरे सामने
पर तू मेरे दिल में बसता हैं
मेरे हर दुख में मेरे साथ होता है
और हर सुख में मेरे साथ हसता है,



Mana ki tu nahi hain mere samne,
Par tu mere ddil me basta hain,
Mere har dukh me mere sath hota hain,
Aur har sukh dukh me mere sath hasta hain.



होती नहीं है मोहब्बत सूरत से,
मोहब्बत तो दिल से होती है,
सूरत उनकी खुद-ब-खुद लगती है प्यारी,
कदर जिनकी दिल में होती है !



Hoti nahi hain mahibbat surat se,
Mahobbat to dil se hoti hain,
Soorat unaki khud-b-khud lagti hain pyari,
Kadar jinaki dil me hoti hain.



तुझे क्या पता कि मेरे दिल में,
कितना प्यार है तेरे लिए,
जो कर दूँ बयान तो,
तुझे नींद से नफरत हो जाए!,



Tuje kya pata ki mere dil me,
Kitna pyar hain tere liye,
Jo kar du bayan to,
Tuje nind se nafrat ho jaye.



RELATED POST :- Sad Shayari For Girls



अपने प्यार पर है,
इतना यक़ीन दोस्तों,
कि जो हमारा हो गया,
वो कभी किसी और का नहीं हो सकता…,



Apne pyaar par hain,
Itna yakin dosto,
Ki jo hamra ho gaya,
Vo kabhi kisi aur ka nahi ho sakta.



तुम्हारी आँखों की गहराई में,
खोना चाहता हूँ मैं,
भरकर तुम्हे अपनी बाहों में,
सोना चाहता हूँ मैं,



Tumhari aankho ki gahrai me,
Khona chahta hu me,
Bharkar tumhe apni baho me,
Sona chahta hu me.



आता नही था हमें इकरार करना,
ना जाने कैसे सीख गये प्यार करना,
रुकते ना थे दो पल कभी किसी के लिए,
ना जाने कैसे सीख गये इंतेज़ार करना!!,



Aata nahi tha hame ikrar karna,
NA jane kaise sikh gaye pyaar karna,
Rukte na the do pal kabhi kisi ke liye,
Na jane kaise sikh gaye intezar karna.



मत पूछ वजह की क्यू चाहती हूँ तुझे,
क्योंकि साचा इश्क वजह से नहीं बेवजह होता है!



Mat puch vajah ki kyu chahti hu tuje,
Kyoki saccha ishq vajah se nahi bevajah hota hain.



वो खुद पर इतना गुरूर करते हैं,
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं,
वो आम हो ही नहीं सकते !!,



Vo khud par itna gurur karte hain,
To isame hairat ki baat nahi,
Jinhe ham chahte hain,
Vo aam ho hi nahi sakte.



दर्द की जब कभी इन्तहा होती हैं
दवा की जरुरत फिर कहाँ होती हैं
तन्हाई, बेचैनी और बस कुछ आहें
इनमे पल कर ही मोहब्बत जवां होती हैं,



Dard ki jab kabhi intaha hoti hain,
Dava ki jarurat fir kaha hoti hain,
Tanhai bechaini aur bas khuch aahe,
Iname pal kar hi mahobbat java hoti hain.



दिल नहीं लगता आपको देखे बिना ;
दिल नहीं लगता आपके बारे में सोचे बिना;
आँखें भर आती हैं यह सोच कर;
कि किस हाल में होंगे आप हमारे बिना।



Dil nahi lagta aapko dekhe bina,
Dil nahi lagta aapke bare me soche bina,
Aankhe bhar aati hain yah soch kar,
Ki kis hal me hoge aap hamare bina.



ऐ खुदा मुझे जब बनाए
थोड़ी सी मिट्टी उसकी मिला देना
तू मुझे उसका नही बना सकता
तो उस जैसा मुझे बना देना !



E khuda muje jab banaye,
Thodi si mitti uski mila dena,
Tu muje uska nahi bana sakta,
To us jaisa muje bana dena.



फ़ासले तुम और बढ़ाओ,
ऐतराज़ हमनें कब किया है
तुम भी भुला ना पाओगे मुझको
वो मस्त अंदाज़ हूँ मैं !



Fasle tum aur badhao,
Etraj hamne kab kiya hain,
Tum bhi bhula na paoge mujko,
Vo mast andaj hu main.



सरे राह जो उनसे नज़र मिली,
तो नक़्श दिल के उभर गए;
हम नज़र मिला कर झिझक गए,
वो नज़र झुका कर चले गए।



Sare rah jo unse najar mili,
To naksh dil ke ubhar gaye,
Ham najar mila kar jijak gaye,
Vo najar kar chale gaye.



बदल दिया है मुझे,
मेरे चाहने वालो ने ही,
वरना मुझ जैसे शख्स में,
इतनी खामोशी कहाँ थी..,



Badal diya hai muje,
Mere chahne valo ne hi,
Varna muj jaisa shaksh me,
Itni khamoshi kaha thi.



RELATED POST :- Emotional Shayari In Hindi



वो छोड़ के गए हमें,
न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी



Vo chod ke gaye hame,
Na jane unki kya majburi thi,
Khuda ne kaha isame unka koi kasoor nahi,
Ye kahani to maine likhi hi adhuri hain.



क्या अजीब था उनका मुझे छोड़ के जाना,
सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं,
कुछ इस तरह बर्बाद हुए उनकी मोहब्बत में,
लुटा भी कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं।,



Kya ajib tha unka muje chod ke jana,
Suna kuch nahi aur kaha bhi kuch nahi,
Kuch is tarah barbad hue unki mahobbat me,
Luta bhi kuch nahi bacha bhi kuch nahi.



पल-पल उसका साथ निभाते हम,
एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम,
समन्दर के बीच में फरेब किया उसने,
कहते तो किनारे पर ही डूब जाते हम। ,



Pal-Pal uska sath nibhate ham,
Ek isare par duniya chod jate ham,
Samndar ke bich me fareb kiya usane,
Kahte to kinare par hi dub jate ham.



मैं ख़ामोशी हूँ तेरे मन की,
तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा,
मैं एक उलझा लम्हा हूँ,
तू रूठा हुआ हालात मेरा। ,



Main khamoshi hu tere man ki,
Tu ankaha alfaj mera,
Main ek ulja lamha hu,
Tu rutha hua halat mera.



इश्क करना तो लगता है जैसे,
मौत से भी बड़ी एक सजा है,
क्या किसी से शिकायत करें हम,
जब अपनी तकदीर ही बेवफा है। ,



Ishqq karna to lagta hain jaise,
Maut se bhi badi ek saja hain,
Kya kisi se sikayat kare ham,
Jab apni jakdeer hi bewfa hain.



दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बैठे।,.



Dil se roye magar hotho se muskura baithe,
Yu hi ham kisi se vafa nibha baithe,
Vo hame ek lamha na de paye pyaar ka,
Aur ham unke liye jindagi luta baithe.



मुझे तुझसे कोई शिकवा या शिकायत नहीं,
शायद मेरे नसीब में तेरी चाहत नहीं है,
मेरी तकदीर लिखकर खुदा भी मुकर गया,
मैंने पूछा तो बोला ये मेरी लिखावट नहीं है।।,



Muje tujase koi shikva ya shikayat nahi,
Shayad mere nashib me teri chahat nahi hain,
Meri takdeer likhkar khuda bhi mukar gaya,
Mene pucha to bola ye meri likhavat nahi hain.



जब भी उनकी गली से गुज़रते हैं,
मेरी आँखें एक दस्तक दे देती हैं,
दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते हैं,
ख़ुशी ये है कि वो मुझे पहचान लेते हैं। ,



Jab bhi unki gali se gujarte hain,
Meri aankhe ek dastak de deti hain,
Dukh ye nahi vo darvaja bandh kar dete hain,
Khushi ye hain ki vo muje pahchan leti hain.



मोहब्बत की सजा बेमिसाल दी उसने,
उदास रहने की आदत सी डाल दी उसने,
मैंने जब अपना बनाना चाहा उसको,
बातों-बातों में बात टाल दी उसने। ,



Mahobbat ki saja bemisal di usne,
Udas rahne ki aadat si dal si usne,
Maine jab apna banana chaha usko,
Bato-bato me baat tal di usane.



#वो छोड़ के गए हमें,
# न जाने उनकी क्या मजबूरी थी,
खुदा ने कहा इसमें उनका कोई कसूर नहीं,
ये कहानी तो मैंने लिखी ही अधूरी थी !



Vo chod ke gaye hame,
Na jane unki kya majburi thi,
Khuda ne kaha usme unka koi kasur nahi,
Ye kahani to maine llikhi hi adhuri thi.



क्या अजीब था उनका मुझे छोड़ के जाना,
सुना कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं,
# कुछ इस तरह बर्बाद हुए उनकी मोहब्बत में,
लुटा भी कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं।



Kya ajeeb tha unka muje chod ke jana,
Suna kuch nahi aur kaha bhi kuch nahi,
Kuch is tarah barbad hue unki mahobbat main,
Luta bhi kuch nahi aur bacha bhi kuch nahi



पल-पल उसका साथ निभाते हम,
एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम,
समन्दर के बीच में फरेब किया उसने,
कहते तो किनारे पर ही डूब जाते हम 💕



Pal – Pal uska sath nibhate ham,
Ek isare par duniya chod jate hain,
Samndar ke bich me fareb kiya usne,
Kahte to kinare par hi dub jate ham.



करूँ तेरा ज़िक्र या अहसासों में रहने दूँ।
करूँ तुझे महसूस या धड़कन में बहने दूँ।
तुझे लफ्जों में करूँ बयां या “इबादत” में रहने दूँ।



Karu tera jikra ya ahsaso me rahne du,
Karu tuje mahssus ya dhadkan me bahne du,
Tuje lafjo me karu baya ya ibadat me rahne du.



मैं ख़ामोशी हूँ तेरे मन की,
तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा,
मैं एक उलझा लम्हा हूँ,
तू रूठा हुआ हालात मेरा



Main khamoshi hu tere man ki,
Tu ankaha alfaj mera,
Me ek ulja lamha hu,
Tu rutha hua halat mera.



इश्क करना तो लगता है जैसे,
#मौत से भी बड़ी एक सजा है,
#क्या किसी से शिकायत करें हम,
जब अपनी तकदीर ही बेवफा है।



Ishaq karna to lagta hain jaise,
Maut se bhi badi ek saja hain,
Kya kisi se sikayat kare ham,
Jab apni takdeer hi bewfa hain.



दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे,
#यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बैठे।



Dil se roye magar hotho se muskura baithe,
Yu hi ham kisi se vafa nibha baithe,
Vo hame ek lamha na de paye pyaar ka,
Aur ham unke liye jindagi luta baithe.



मुझे तुझसे कोई शिकवा या शिकायत नहीं,
शायद मेरे नसीब में तेरी चाहत नहीं है,
मेरी तकदीर लिखकर खुदा भी मुकर गया,
मैंने पूछा तो बोला ये मेरी लिखावट नहीं है।,



Muje tujase koi shikva ya shikayat nahi hain,
Shayad mere nasib me teri chahat nahi hain,
Meri takdeer likhkar khuda bhi mukar gaya,
Maine pucha to bola ye meri likhavat nahi hain.



जब भी उनकी गली से गुज़रते हैं,
मेरी आँखें एक दस्तक दे देती हैं,
दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते हैं,
ख़ुशी ये है कि वो मुझे पहचान लेते हैं।,



Jab bhi unki gali se gujarte hain,
Meri aankhe ek dastak de deti hain,
\Dukh ye nahi vo darvaja bandh kar dete hain,
Khushi ye hain ki vo muje pahchan lete hain.



Zindagi Shayari In Hindi



💟इश्क़ हमें करना नहीं आया😂
💗वो कहते हैं, ज़रा चिर के देखो💏
💔अपना दिल तो उन्हें मालूम हो💚
💓के सीने में हमेशा हम उन्हें की 💛
💙तो तस्वीर छुपाए रहते हैं.!!,



Ishq hame karna nahi aaya,
Vo kahte hain jara chir ke dekho,
Apna dil to unhe malum ho,
Ke sine me hamesha ham unhe ki,
To tasveer chupaye rakhte hain.



💇वफ़ा की ज़ंज़ीर से डर लगता है, 💖
कुछ अपनी तक़दीर से डर लगता है.💚
💙जो मुझे तुझसे जुदा करती है,💋
💂 हाथ की उस लकीर से डर लगता है.💛,



Vafa ki janjeer se dar lagta hain,
Kuch apni takdeer se dar lagta hain,
Jo muje tujase juda karti hain,
Hath ki us lakeer se dar lagta hain.



मोहब्बत की सजा बेमिसाल दी उसने,
उदास रहने की आदत सी डाल दी उसने,
मैंने जब अपना बनाना चाहा उसको,
बातों-बातों में बात टाल दी उसने।



Mahobbat ki saja bemisal di usne,
Udas rahne ki aadat i dal di usne,
Maine jab apna banana chaha unko,
Bato bato me baat tal di usne.



तुम्हें ग़ैरों से कब फुर्सत
हम अपने ग़म से कब ख़ाली,
चलो बस हो चुका मिलना
न तुम ख़ाली न हम ख़ाली।,



Tumhe gairo se kab fursat,
Ham apne gam se kab khali,
Chalo bas ho chuka milna,
Na tum khali na ham khali.



मोहब्बत से रिहा होना ज़रूरी हो गया है,
मेरा तुझसे जुदा होना ज़रूरी हो गया है,
वफ़ा के तजुर्बे करते हुए तो उम्र गुजरी,
ज़रा सा बेवफा होना ज़रूरी हो गया है।



Mahobbat se riha hona jaruri ho gaya hain,
Mera tujse juda hona jaruri ho gaya hain,
Vafa ke tajurbe karte hue to umra gujari,
Jara sa bevfa hona jaruri ho gaya hain.



Zindagi Shayari In Hindi



कभी जो हम से प्यार बेशुमार करते थे,
कभी जो हम पर जान निसार करते थे,
भरी महफ़िल में हमको बेवफा कहते हैं,
जो खुद से ज़्यादा हमपर ऐतबार करते थे।



Kabhi jo hamse pyaar beshumar karte the,
Kabhi jo ham par jaan nisar karte the,
Bhari mahfil me hamko bewfa kahte hain,
Jo khud se jyada hampar etbaar karte the.



“तेरे मिलने की आस न होती;
तो ज़िंदगी आज यूँ उदास न होती;
मिल जाती कभी तस्वीर जो तेरी;
तो हमको आज तेरी तलाश न होती।”,



Tere milne ki aas na hoti,
To jindagi aaj yu udas na hoti,
Mil jati kabhi tasveer jo teri,
To hamko aaj teri talash na hoti.



मोहब्बत तो दिल से की थी,
दिमाग उसने लगा लिया !
दिल तोड दिया मेरा उसने,
और इल्जाम मुझपर लगा दिया !,



Mahobbat to dil se ki thi,
Dimag usne laga liya,
Dil tod diya mera usne,
Aur iljam mujpar laga diya.



बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम,
गलती हमसे हुई क्योंकि इंसान थे हम,
आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है,
कुछ समय पहले उनकी जान थे हम।,



Bevfa se dil laga liya nadan the ham,
Galti hamse hue kyoki insan the ham,
Aaj jinhe najre milane me takleef hoti hain,
Kuch samay pahle unki jaan the ham.



छोड़ गए हमको वो अकेले ही राहों में,
चल दिए रहने वो औरों की पनाहों में,
शायद मेरी चाहत उन्हें रास नहीं आई,
तभी तो सिमट गए वो गैर की बाहों में।,



Chod gaye hamko vo akele hi raho me,
Chal diye rahne vo auro ki panaho me,
Shayad meri chahat unhe ras nahi aai,
Tabhi to simat gaye vo gair ki baho me.



Zindagi Shayari In Hindi



एक बेवफा से प्यार का अंजाम देख लो,
मैं खुद ही शर्मशार हूँ उससे गिला नहीं,
अब कह रहे हैं मेरे जनाज़े पे बैठ कर,
यूँ चुप हो जैसे हमसे कोई वास्ता नहीं।,



Ek bevfa se pyar ka anjam dekh lo,
Main khud hi sharmshar hu usase gila nahi,
Ab kah rahe hain mere janaje par baithkar,
Yu chup ho jaise hamse koi vasta nahi.



बंद होंठों से कुछ ना कहकर,
आँखों से प्यार जताते हो |
जब भी आते हो,
हम्मे हमसे ही चुरा ले जाते हो,



Bandh hotho se kuch na kahkar,
Aankho se pyaar jatate ho,
Jab bhi aate ho,
Hame hamse hi chura le jate ho.



मैं खुद हैरान हु की तुझसे
♥इतनी मोहब्बत क्यू है मुझे,
जब भी प्यार शब्द आता है
चेहरा तेरा ही याद आता है….,



Main khud hairan hu ki tujase,
Itani mahobbat kyu hain muje,
Jab bhi pyaar sand aata hain,
Chehra tera hi yaad aat hain.



छोड़ गए हमको वो अकेले ही राहों में,
चल दिए रहने वो औरों की पनाहों में,
शायद मेरी चाहत उन्हें रास नहीं आई,
तभी तो सिमट गए वो गैर की बाहों में।,



Chod gaye hamko vo akele hi raho me,
Chal diye rahne vo auro ki panaho me,
Shayad meri chahat unhe ras nahi aai,
Tabhi to simat gaye vo gair ki baho me.



एक बेवफा से प्यार का अंजाम देख लो,
मैं खुद ही शर्मशार हूँ उससे गिला नहीं,
अब कह रहे हैं मेरे जनाज़े पे बैठ कर,
यूँ चुप हो जैसे हमसे कोई वास्ता नहीं।,



Ek bevfa se pyar ka anjam dekh lo,
Main khud hi sharmshar hu usase gila nahi,
Ab kah rahe hain mere janaje par baithkar,
Yu chup ho jaise hamse koi vasta nahi.



बंद होंठों से कुछ ना कहकर,
आँखों से प्यार जताते हो |
जब भी आते हो,
हम्मे हमसे ही चुरा ले जाते हो,



Bandh hotho se kuch na kahkar,
Aankho se pyaar jatate ho,
Jab bhi aate ho,
Hame hamse hi chura le jate ho.



Zindagi Shayari In Hindi



मैं खुद हैरान हु की तुझसे
♥इतनी मोहब्बत क्यू है मुझे,
जब भी प्यार शब्द आता है
चेहरा तेरा ही याद आता है….,



Main khud hairan hu ki tujase,
Itani mahobbat kyu hain muje,
Jab bhi pyaar sand aata hain,
Chehra tera hi yaad aat hain.



ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा दुख दिल टूटने पर नही
भरोसा टूटने पर होता है,
क्योंकि हम किसी पर भरोसा
कर के ही दिल लगाते है।



Jindagi main sabse jyaada dukh dil tutne par nahi
Bharosa tutane par hote hain,
Kyoki ham kisi par bharosa
Karke hi dil lagate hain.



भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत,
तो भूलके तुमको संभालना हमें भी आता है,
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना,
तेरी तरह बदल जाना मुझे भी आता है।



Bhulkar bhi gr tum rahte ho salamat,
To bhulke tumko shambhalna hame bhi aat hain
Meri fitrat main ye aadat nahi hain varna
Teri tarah badal jana muje bhi aata hain.



उसकी मोहब्बत का
सिलसिला भी क्या अजीब था,
अपना भी नही बनाया और
किसी और का भी ना होने दिया।



Uski mahobbat ka
silsila bhi kya ajib tha,
Apna bhi nahi banaya aur
Kisi aur ka bhi na hone diya.



मेरी चाहत ने उसे खुशी दे दी..
बदले में उसने मुझे सिर्फ खामोशी दे दी..
खुदा से दुआ मांगी मरने की..
लेकिन उसने भी तड़पने के लिए ज़िन्दगी दे दी।



Meri chahat ne usi khushi de di,
Badal me usne muje sirf khamoshi de di,
Khuda se dua mangi marne ki
Lekin usne bhi tadpane ke liye jindagi de di.



Zindagi Shayari In Hindi



प्यार हर किसी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पर मरना सिखा देता है,
प्यार नही किया तो करके देखो,
ये हर दर्द सहना सिखा देता है।



Pyaar har kisi ko jina sikha deta hain,
Vafa ke naam par marna sikha deta hain,
Pyaar nahi kiya to karke dekho,
Ye har dard sahna sikha deta hain.



आज तेरी याद को सीने से लगा कर हम रोये,
हम तुझे तन्हाई में पास बुलाकर रोये,
पाना तो बहुत चाहा था हर बार तुझे,
पर हर बार तुझे न पाकर हम रोये।



Aaj teri yaad ko sine se laga kar ham roye,
Ham tuje tanhai me paas bulakar roye,
Pana to bahut chaha tha har baar tuje,
Par har bar tuje na pakar ham roye.



तुम्हें ग़ैरों से कब फुर्सत
हम अपने ग़म से कब ख़ाली,
चलो बस हो चुका मिलना
न तुम ख़ाली न हम ख़ाली।



Tumhe gairo se kab fursat,
Ham apne gam se kab khali,
Chalo bas ho chuka milna,
Na tum khali na ham khali.



Zindagi Shayari In Hindi



बिन उस की ज़िंदगी दर्द-ए-तन्हाई है,
मेरी आँखों में क्यू मौत सिमट आई है,
कहते हैं लोग इश्क़ को इबादत यारो,
इबादत में फिर क्यू इतनी रुसवाई है!



Bin us ki jindagi dard-e-tanhae hain,
Meri aankho me kyu maut simat aai hain,
Kahte hain log ishq ko ibadat yaro,
Ibadat me fir kyu itani rusvae hain.



उसने दर्द इतना दिया कि सहा ना गया,
उसकी आदत सी थी इसलिए रहा न गया,
आज भी रोती हूं उसे दूर देख के,
लेकिन दर्द देने वाले से यह कहा ना गया!



Usne dard itna diya ki saha na gaya,
Uski aadat si thi isliye raha na gaya,
Aaj bhi roti hu use dur dekh ke,
Lekin dard dene vale se yah kaha na gaya.



सब कुछ मिला बस खुदाई के सिवा,
ज़िंदगी बहुत पसंद आई रुसवाई के सिवा,
मेरी चाहत का एहसास भी न होगा,
उसकी हर अदा पसंद आई बेवफ़ाई के सिवा!



Sab kuch mila bas khudai ke siva,
Jindagi bahut pasand aai rusvai ke siva,
Meri chahat ka ehsas bhi na hoga,
Uski har ada pasand aai bevfai ke siva.



कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी,



Kabhi gam to kabhi tanhae mar gayi,
Kabhi yaad aa kar unki judai mar gayi,
Bahut tut kar chaha jisko hamne,
Aakhir me unki hi bevfai mar gayi.



प्यार सभी को जीना सिखा देता है
वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों
जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है..,



Zindagi Shayari In Hindi



Pyar sabhi ko jina sikha deta hain,
Vafa ke naam par marna sikha deta hain,
Pyar nahi kiya to kar ke dekh lo yaro,
Jalim har dard sahna sikha dega.



दिल से रोए मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे,
यूँही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,
वो हमे एक लम्हा ना दे पाए अपने प्यार का,
और हम उनके लिए अपनी ज़िंदगी गवां बैठे,



Dil se roye magar hotho se muskura baithe,
Yuhi ham kisi se vafa nibha baithe,
Vo hame ek lamha na de paye apne pyaar ka,
Aur ham unke liye apni jindagi gava baithe.



अंजाने में हम अपना दिल गवां बैठे,
इस प्यार मे कैसा धोखा कर बैठे,
उनसे क्या गिला करे… भूल हमारी थी,
पजो बिना दिलवालों से दिल लगा बैठे,



Anjane me ham apna dil gava baithe,
Is pyaar me kaisa dhokha kar baithe,
Unse kya gila kare bhul hamari thi,
Panjo bina dilwalo se dil laga baithe.



मैंने भी किसी से प्यार किया था
उनकी रहो में इंतजार किया था
हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें
कसूर उनका नहीं मेरा ही था
जो एक बेवफा से प्यार किया था,



Maine bhi kisi se pyaar kiya tha,
Unki rahi me inzar kiya tha,
Hame kya pata vo bhul jayenge hame,
Kasoor unka nahi mera hi tha,
Jo ek bewfa se pyaar kiya tha.



Zindagi Shayari In Hindi



खा कर ज़ख़्म दुआ दी हमने,
बस यूही उमर बीता दी हमने,
देख कर जिसको दिल दुखता था,
आज वो तस्वीर जला दी हमने!!



Kha kar jakhm dua di hamne,
Bas yuhi umar bita di hamne,
Dekh kar jisko dil dukhta tha,
Aaj vo tasveer jaladi hamne.





AGAR AAPKO HAMARI YE ZINDAGI SHAYARI IN HINDI PADHNE ME ACCHA LAGA HO TO AAP HAME COMMENT KARKE BATAYE. AUR ESI BAHOT SARI SHAYARIYA PADHNE KE LIYE AAP HAMARI WEBSITE terimerishayari.in PE AAKE PADH SAKTE HO.

AUR AAP HAME SOCIAL MEDIA PE BHI FOLLOW KAR SAKTE HO. FACEBOOK , INSTAGRAM , TWITTER , LINKED

Zindagi Shayari In Hindi 2 Line, Hasrate Zindagi Shayari In Hindi, रियल लाइफ शायरी इन हिंदी, Zindagi Shayari In English, 4 दिन की जिंदगी शायरी, जिंदगी शायरी मराठी, जिंदगी एक खेल है शायरी, जिंदगी शायरी 2 लाइन, Zindagi Shayari In Hindi 2 Line, Hasrate Zindagi Shayari In Hindi, जी लो जिंदगी शायरी, 4 दिन की जिंदगी है, जिंदगी की परीक्षा शायरी, जिंदगी की राहों में शायरी, जिंदगी पर शायरी, जिंदगी एक खेल है शायरी, 2 दिन की जिंदगी, नई जिंदगी की शुरुआत शायरी,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *